जैक द रिपर! जुर्म की दुनिया का एक ऐसा कुख्‍यात अपराधी, जो सिर्फ़ महिला वेश्याओं को ही अपना शिकार बनाता था. वो कहां से आता था और कहां गायब हो जाता था, ये आज तक कोई नहीं जान पाया. उस दौर में इस खूंखार अपराधी के कारनामों ने पूरी दुनिया को दहला दिया था.

Source: quora.com

जैक इतना खूंखार हत्यारा था कि वो अपने शिकार की गर्दन धड़ से अलग कर और उनके शरीर से आंतरिक अंगों को निकाल लेता था. मानव अंगों को निकालने के उसके क्रूर तरीकों के कारण ही उसे ये नाम दिया गया.

Source: bbc.com

बात साल 1888 के आसपास की है. 'जैक द रिपर' नाम के इस सीरियल किलर ने लंदन शहर की सड़कों पर सनसनी फैला रखी थी. उस समय लंदन का वाइट चैपल इलाका वेश्याओं का गढ़ माना जाता था. जैक इसी इलाके में नशे में धुत वेश्याओं को अपना शिकार बनाता था.

Source: twitter.co

जैक ने पहली बार 31 अगस्त, 1988 को मेरी एन निकोलस नाम की एक महिला की हत्या की थी. इसके बाद 'जैक द रिपर' ने लगातार पांच हत्याएं की. वो अपने हर शिकार की जान एक ख़ास तरीके से लेता था. उन पांचों की गर्दन किसी तेज़ धार वाले हथियार से रेते गए थे.

Source: twitter.com

8 सितंबर 1888 'द स्टार' अख़बार में ख़बर छपी कि लंदन शहर एक खूंखार सीरियल किलर की चपेट में आ चुका है. जो आधा इंसान, आधा दानव, की तरह दिखता है. ये हत्यारा अब भी फ़रार है. ये रोज सड़कों पर ख़तरनाक इरादों के साथ निकलता है, बेबस व कमजोर महिलाओं को अपना शिकार बना रहा है. वो खू़न के नशे में है, इसलिए इससे बचो.

Source: twitter.com

इस दौरान लंदन का व्हाइट चैपल इलाका अशांत हो उठा. हत्यारे को ढूंढ़ने में पुलिस ने अपनी सारी ताकत झोंक दी. पुलिस ने इलाके में रहने वाली लगभग सैकड़ों वेश्याओं से पूछताछ की. इस पर वेश्याओं ने एक ऐसे शख्स के बारे में बताया जो हमेशा चमड़े का ऐप्रन पहने रहता है और जबरन वसूली करता है.

Source: wahgazab

इस बीच पुलिस को डर था कि चमड़े का ऐप्रन पहनने वाला वो शख़्स कहीं कोई यहूदी निकला तो उसे गिरफ़्तार करने से दंगा न भड़क जाए. मगर राहत की बात ये रही कि ये आशंका गलत साबित हुई.

Source: amarujala

1 अक्तूबर, 1888 'द स्टार' में फिर से ख़बर छपी कि व्हाइट चैपल इलाके में सीरियल किलर फिर से वापस आ गया है. इस बार उसने दो महिलाओं को अपना शिकार बनाया है. ये दोनों हत्याएं रात के 1 बजे हुईं. इस बार भी हत्या का तरीका पहले जैसा ही था. दोहरे हत्या की इस वारदात ने लंदन ही नहीं बल्कि दुनिया भर में सनसनी फैला दी. ब्रिटेन ही नहीं, दुनिया भर में ये ख़बर हेडलाइन बनी.

Source: iamag

इस घटना के बाद लंदन के पूर्वी व्हाइट चैपल इलाक़े में देश भर से हज़ारों लोग एकत्र हुए. यहां तक कि रानी विक्टोरिया भी ख़ुद को यहां आने से रोक न सकीं। इस दौरान रानी विक्टोरिया चाहती थीं कि इस इलाके में बड़ी संख्या में जासूसों को लगाया जाए. इस बीच लोगो की सुरक्षा को लेकर पुलिस की गश्त बढ़ा दी और चप्पे चप्पे पर जासूस लगा दिए गए.

Source: imdb

इस दौरान जैक द रिपर ने कुछ दिन के लिए हत्याएं रोक दी. एक ही महीने बाद जैक को अंदाज़ा हो गया था कि अब शिकार पर निकलने में कोई ख़तरा नहीं है. इस बार उसने 25 साल की मेरी केली नाम की युवती को अपना शिकार बनाया. केली जब घर पर अकेली थी उस वक़्त उसे मारा गया.

Source: danieldefo

मेरी की मकान मालकिन ने बताया कि उसकी हालत देखकर लगता था कि यह काम किसी इंसान का नहीं, बल्कि किसी हैवान का है. ये जैक द रिपर का आख़री गुनाह था. भले ही इसके बाद उसने हत्याएं करनी बंद कर दी, मगर वो आज भी विक्टोरिया युग में एक धब्बे की तरह रहा.

Source: wallpaperswide

हालांकि इस अपराधी का असली नाम कभी भी सामने नहीं आ पाया. जैक इतना फ़ेमस था कि इसके नाम पर कई हॉरर वीडियो गेम भी बनाए गए थे, जो ख़ूब पॉपुलर हुए थे.

Source: intoday

जैक द रिपर की कहानी इसलिए भी लोगों को रोमांचित करती है क्योंकि वो कभी पकड़ा ही नहीं गया.