अकसर आपने देखा होगा की महिलाएं सर्दियां आने से पहले ही स्वेटर बुनना शुरू कर देती हैं. ऐसा तकरीबन देश की हर मिडल क्लास फ़ैमिली में होता है. पर क्या आप जानते हैं, स्वेटर बुनने की यही कला कभी जासूसी के लिए इस्तेमाल की जाती थी. नहीं तो चलिए, आज बुनाई और जासूसी से जुड़ी इस दिलचस्प कहानी के बारे में भी जान लेते हैं.

Knitting and Spy

अमेरिका और उसके जैसे कई देश विश्वयुद्ध के दौरान जासूसी करने के लिए बुनकरों का इस्तेमाल करते थे. वैसे तो युद्ध के दिनों में सेना के जवानों के लिए स्वेटर, मोजे आदि बुनकर आम लोग भी अपना योगदान दिया करते थे.

Knitting and Spy

लेकिन साधारण सी दिखने वाली इस कला का उपयोग दुश्मन देश की जासूसी करने के लिए भी किया जाता था. बुनाई को कोई गुप्त संदेश या फिर किसी चीज़ को छिपाए रखने के लिए भी किया जाता था.

Knitting and Spy

ऐसा उन देशों में अधिक होता था, जो दूसरों देशों से परेशान थे और उनकी जासूसी कर अपने देश को चुपके से फ़ायदा पहुंचाना चाहते थे. यही नहीं बच्चों, मरीज़ों और कैदियों को भी बुनना सिखाया जाता था. इससे लोगों का मन शांत होता था और कई तरह की बीमारियों से भी उभरने में मदद मिलती थी.

Knitting and Spy

एक ब्लॉगर ने Bored Panda को अपना अनुभव शेयर करते हुए बताया, जब भी दुश्मन देश से जुड़ी कोई अहम जानकारी उन्हें भेजनी होती थी, तो वो उसे एक पेपर लिख लेते थे. फिर उसे तोड़-मरोड़ कर उस पर अच्छे से ऊन को लपेट कर गोला बना लिया जाता था. फिर इस गोले को लेकर महिला जासूस किसी तय स्थान पर स्वेटर बुनने लगती थी. तभी वो चालाकी से ऊन का गोला नीचे गिरा देती और नीचे खड़ा गुप्तचर उसमें छिपी जानकारी हासिल कर लेता था.

Knitting and Spy

एक अन्य ब्लॉगर के अनुसार, कई बार बुनकर स्वेटर में Encrypted Message बुन कर भेजते थे. इन्हें डिकोड कर उस संदेश को हासिल किया जाता था.

Knitting and Spy

स्वेटर के ज़रिये जासूसी करने का ये किस्सा पहले कभी पढ़ा था आपने?