पीएम मोदी ने इस गांधी जयंती से लोगों को सिंगल यूज़ प्लास्टिक न इस्तेमाल करने की अपील की है. लेकिन प्लास्टिक हमारी ज़िंदगी में इस कदर पैर पसार चुका है कि उसे छोड़ने में लोगों को दिक्कतें हो रही हैं. ऐसे लोगों को सिक्किम के एक गांव से सीख लेनी चाहिए, जिसने सिंगल यूज़ प्लास्टिक पर बैन लगाने की दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाई है.

Lachung
Source: tourmyindia

एक रिसर्च के मुताबिक, भारत में हर साल तक़रीबन 6.5 मिलियन टन प्लास्टिक इस्तेमाल किया जाता है. इसमें से सिंगल यूज़ प्लास्टिक का हिस्सा 45 फ़ीसदी होता है. ये प्लास्टिक एक बार इस्तेमाल होने के बाद सीधा कचरे के डिब्बे में नज़र आती है.

Lachung
Source: bcmtouring

इस तरह ये प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम से कम करने की कोशिश में सबसे बड़ी बाधा है. इस बाधा को दूर करने की इच्छाशक्ति दिखाई है, सिक्किम के गांव लाचुंग(Lachung) ने. यहां के लोगों ने सिंगल यूज़ प्लास्टिक पर बैन लगा दिया है.

फ़ेमस टूरिस्ट प्लेस होने के चलते यहां पर लोग अकसर पानी की बॉटल, प्लास्टिक के चम्मच, जैसे सिंगल यूज़ प्लास्टिक लेकर आते हैं. ऐसे लोगों को पहले ही एक चेक पॉइंट पर तलाशी लेकर उन्हें इनका इस्तेमाल न करने की जानकारी दे दी जाती है.

Lachung
Source: bbc

अगर फिर भी कोई टूरिस्ट ऐसा करता पाया जाता है, तो उस पर जुर्माना लगाया जाता है. ये नियम इस गांव के लोगों ने 3 साल पहले बनाया था. गांव के सभी लोग इसका पालन करते हैं. यही नहीं, गांव वाले सिंगल यूज़ प्लास्टिक को घर में फिर से किसी न किसी रूप में इस्तेमाल भी कर रहे हैं.

Lachung
Source: bbc

सिंगल यूज़ प्लास्टिक को बैन करने की मुहिम को अगर सफ़ल बनाना है, तो हमें इस गांव से सीखना होगा. अगर पूरा देश ठान ले कि उन्हें सिंगल यूज़ प्लास्टिक को इस्तेमाल नहीं करना है, तो इस समस्या से निजात पाया जा सकता है.

यहां देखिए वीडियो:

इस बारे में आपका क्या ख़्याल है, कमेंट बॉक्स में हमसे ज़रूर शेयर करें.

Life से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.