चाय के साथ अख़बार पढ़ते हुए देश के हालात देखकर ये कहना आसान है कि इस देश का कुछ नहीं हो सकता. लेकिन अगर आप अपने समाज या फिर देश में बदलाव लाना चाहते हैं, तो आपको आगे आकर स्वयं कुछ करना होगा है. तब जाकर धीरे-धीरे तस्वीर बदलेगी है. देश को अच्छा बनाने के लिए कुछ उम्मीद की किरणें जगी हैं, अगर हमने इन्हें अपना लिया तो काफ़ी हद तक हम एक ख़ुशहाल और प्रगतिशील देश का निर्माण कर पाएंगे.

1. एंबुलेंस का रास्ता रोकने पर देना होगा 10 हज़ार रुपये का फ़ाइन

Source: thequint

नए Motor Vehicle Bill के अनुसार, अब से एंबुलेंस का रास्ता जानबूझ कर रोकने वालों पर 10 हज़ार रुपये का फ़ाइन लगेगा. साथ ही ख़तरनाक ड्राइविंग करने पर 5000 और शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 10000 रुपये का ज़ुर्माना लगेगा.

2. माता-पिता की देखभाल न करने पर होगी जेल

Source: navjivanindia

बिहार में हाल ही में एक नया क़ानून पास किया गया है, जिसके अनुसार बुज़ुर्ग माता-पिता की देखभाल न करने पर बच्चों को जेल हो सकती है. माता-पिता का अपमान करने पर 5000 रुपये का आर्थिक दंड देने का प्रावधान भी किया गया है.

3. प्लास्टिक का इस्तेमाल करने पर होगा 25,000 का फ़ाइन

Source: asianage

चेन्नई में प्लास्टिक बैग्स का इस्तेमाल करना बैन है. लेकिन फिर लोग इसे धड़ल्ले से यूज़ कर रहे हैं. इस पर रोक लगाने के लिए हाल ही में वहां के म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने प्लास्टिक का इस्तेमाल करने वालों पर 25,000 रुपये का फ़ाइन लगाने का नया नियम लागू किया है.

4. ऊटी में अब आप Single-Use Plastic आइटम नहीं ले जा सकेंगे

View this post on Instagram

Apakah ini destinasi baru pantai di Bali menuju @pulauplastik ?, pantai dengan hamparan plastik bening dan warna-warni, menghiasi Pantai Kedongan 😭😭😭... Mari jaga dan rawat pantai kita, agar tidak ada sampah plastik lagi, kawan!. Foto diambil pada Sabtu (26/1). Foto/📷: @miftahuddinhalim #pantaikedonganan #pantaikedongananbali #sampahplastik #sampahplastikpantaikedonganan #janganbuangsampahsembarangan #janganbuangsampahplastiksembarangan #minimalisasipemakaianplastik #pulauplastik #janganjadipulauplastik #marijagapantaikita #jagapantaikita #jagapantaikitadarisampah #jagapantaikitadarisampahplastik #marijagapantaikita #rawatpantaikita #menjagakebersihanpantaimenjagaindonesia #rawatindonesia #balidaruratsampahplastik #bali #plasticgarbage #beachplastic #nomoreplasticgarbageinbeach #nomoreplasticinbeach #nomoreplasticinoceans

A post shared by Miftahuddin Halim (@miftahuddinhalim) on

ऊटी के नीलगिरी ज़िला प्रशासन ने हाल ही में ज़िले के अंदर Single-Use Plastic आइटम जैसे पानी की बोतल, कोल्ड ड्रिंक(प्लास्टिक), प्लास्टिक में पैक फ़ूड आदि ले जाने पर बैन लगा दिया है.

5. एथलीट दुती चंद ने स्वीकार की समलैंगिक होने की बात

Source: satyagrah

समलैंगिकता अब अपराध नहीं है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा धारा 377 के अवैध करार दिए जाने के बाद भारतीय एथलीट दुती चंद ने भी ख़ुद के समलैंगिक होने की बात स्वीकार की है.

6. सभी जानवर क़ानूनन व्यक्ति हैं और इंसान उसके संरक्षक

Source: The Indian Express

ये आदेश पंजाब और हरियाणा के हाईकोर्ट ने पशु कल्याण के संदर्भ में दिया है. कोर्ट के अनुसार अब कोई भी जानवरों को किसी वस्तू या फिर संपत्ति की तरह ट्रीट नहीं कर सकता. वो भी न्याय के हक़दार हैं.

7. छत्तीसगढ़ में 15 Transgender जोड़ों ने की शादी

Source: ndtv

समाज में ट्रांसजेंडर्स को कभी स्वीकारा नहीं जाता. इस छवि को बदलने के लिए छत्तीसगढ़ में एक सामुहिक विवाह समारोह में 15 ट्रांसजेंडर्स की शादी आयोजित की गई. संभवत देश में इस तरह का ये पहला समारोह था.

8. चंडीगढ़ की सड़कों पर कूड़ा डालने पर होगा 10000 रुपये का चालान

Source: chandigarhx

चंडीगढ़म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने हाल ही में सड़कों पर कूड़ा फैलाने को लेकर 40 लोगों पर 10-10 हज़ार रुपये का ज़ुर्माना लगाया है. शहर को स्वच्छ रखने के लिए ऐसा ये क़ानून बनाया गया है.

9. सिक्किम के सरकारी कर्मचारियों को सप्ताह में 5 दिन काम करना होगा

Source: theprint

सिक्किम के सीएम प्रेम सिंह तमांग ने अपने राज्य के कर्मचारियों को सप्ताह में 5 दिन काम करने का तोहफ़ा दिया है. उनका कहना है कि इस तरह कर्मचारी अपना और अपने परिजनों के स्वास्थ्य का ख़्याल रख पाएंगे.

10. कोच्ची में बने स्तनपान कराने के लिए रूम

Source: thebetterindia

Kochi Metro Rail Limited (KMRL) ने हाल ही में अपने स्टेशन्स पर माताओं के लिए ब्रेस्टफ़ीडिंग बूथ लगाए हैं. इस प्राइवेट स्पेस में कोई भी महिला आराम से अपने बच्चे को स्तनपान करा पाएंगी.

इस तरह के सकारात्मक बदलाव देश को प्रगतिशील बनाने में कारगर साबित होंगे. है कि नही?