विडंबना है कि एक सरकारी स्कूल का हेडमास्टर ख़ुद बोल रहे हैं कि स्कूल के चपरासी के पास बच्चों को पढ़ाने की दक्षता उनसे ज़्यादा है. मामला कर्नाटक के Gadag ज़िले के Beleri गांव की है. जहां स्कूल के चपरासी दसवीं के बच्चों को गणित पढ़ाते हैं और हेडमास्टर साहब क्लास में फ़ोन चलाते हैं

Source: The Logical Indian

बाढ़ की वजह से स्कूल लंबे समय तक बंद था. प्रशासन ने स्कूलों को आदेश दिया कि सिलेबस ख़त्म करने के लिए एक्स्ट्रा क्लास लगाई जाए.

Beleri गांव के सरकारी हाई स्कूल में कूल 65 छात्र हैं. 8 शिक्षक, 1 गेस्ट शिक्षक और 1 हेडमास्टर. दसवीं में 25 बच्चे पढ़ते हैं. बच्चों को गणित पढ़ाने का काम हेडमास्टर B M Kataraki का है, लेकिन उनकी जगह चपरासी Mallesh बच्चों को पढ़ाते हैं. ये एक दिन की बात नहीं है, ऐसा पिछले सात महीनों से हो रहा है.

अभिभावक जब अपनी शिकायत लेकर पहुंचे तो हेडमास्टर साहब कहने लगे कि चपरासी की गणित अच्छी है इसलिए वो उसे क्लास लेने को कहते हैं और अपने ऊपर क्लास में फ़ोन चलाने के आरोप को नकार दिया.

बात Block Education Office के पास पहुंचाई गई, उन्होंने मामले की प्रति अपनी अनभिज्ञता ज़ाहिर की.