लंदन के बकिंघम पैलेस की ख़ूबसूरती के चर्चे आपने बहुत सुने होंगे. लेकिन हम आपको कहें कि हमारे देश में एक ऐसा महल है जिसकी ख़ूबसूरती के आगे लंदन का बकिंघम पैलेस भी बौना पड़ जाता है तो शायद आप हमारी बात पर यक़ीन न करें. मगर जब आप वडोदरा के लक्ष्मी विलास पैलेस के बारे में जानेंगे और इसकी ब्यूटीफ़ुल तस्वीरों पर नज़र डालेंगे तो आप बकिंघम पैलेस छोड़िए दुनिया के दूसरे आलीशान महलों को भी भूल जाएंगे. 

आइए आज आपको तस्वीरों के ज़रिये देश के इस शानदार और अद्भुत महल से जुड़ी जानकारी बता देते हैं…

1. लक्ष्मी विलास पैलेस को 1890 में महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ ने बनवाया था. 

Source: youtube

2. वर्तमान में Indo-Sacarcenic शैली में बने महल के मालिक महाराज समरजीत सिंह गायकवाड़ और उनकी पत्नी महारानी राधिका राजे गायकवाड़ हैं. 

Source: gqindia

3. ये महल आकार में बकिंघम पैलेस से चार गुना बड़ा है. 

Source: holidify

4. मेजर Charles Mant ने इसका डिज़ाइन तैयार किया था. 

Source: cravecookclick

5. ये महल 500 एकड़ में फैला हुआ है और इसके अंदर 170 आलीशान कमरे हैं. 

Source: pinterest

6. 125 साल पुराने इस महल की गिनती दुनिया के सबसे बड़े और लग्ज़री महलों में की जाती है. 

Source: holidify

7. इस महल के इंटीरियर में आपको भारतीय, इस्लामिक और यूरोपीय वास्तुशिल्प का मिला-जुला रूप देखने को मिलेगा. 

Source: pinterest

8. लक्ष्मी विलास पैलेस में कई बॉलीवुड फ़िल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है. जैसे प्रेम रोग, ग्रैंड मस्ती. 

View this post on Instagram

And when the Rains Gods pause...

A post shared by Radhikaraje Gaekwad (@radhikaraje) on

9. इस पैलेस के अंदर महाराजा फ़तेह सिंह म्यूज़ियम भी है. इसमें फ़ेमस पेंटर राजा रवि वर्मा की पेंटिंग्स रखी गई हैं. 

10. इसके अलावा महल में एक क्रिकेट का मैदान और बैडमिंटन कोर्ट भी है. 

चलिए महारानी राधिका राजे के इंस्टाग्राम अकाउंट की मदद से आपको इस महल के वर्चुअल टूर पर ले चलते हैं... 

11.

12.

13.

View this post on Instagram

The story of Baroda’s connection with Bharatanatyam begins in 1883, when the young, handsome Maharaja of Baroda, Sayajirao Gaekwad III, married a beautiful princess of Tanjore called Lukshmibai (later renamed Chimnabai I). As part of her dowry, the princess brought a troupe of dancers and musicians. In this troupe were two dancers – Gaura, or Gowriammal, whose mother was Kammu Amma, a Tanjore court dancer, and Bhanumathi, a devadasi from Kumbakonam. Two nattuvanars Vadivelu and Sabhapati - father and son - accompanied the dancers. Gaura stayed on but Bhanumati returned to Kumbakonam and another dancer Kanthimati came as her replacement. Here are images of the dancers at various events at the palace and Gauri immortalised as a bronze statue by the Italian master sculptor, Felici. #royaldance #bharatnatyamdance #royalcelebrations #dancersofindia #sculpture #bronze #lvpdocumentation #gaekwadsofbaroda

A post shared by Radhikaraje Gaekwad (@radhikaraje) on

14.

15.

View this post on Instagram

Lukshmi Vilas

A post shared by Radhikaraje Gaekwad (@radhikaraje) on

16.

17.

18.

19.

20. 

21. 

22.

23. 

24.

25.

है ना लक्ष्मी विलास प्लैस बहुत ही शानदार! 

Life से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.