जब पढ़ेगा इंडिया, तभी बढ़ेगा इंडिया.

Poor Child
Source: theconversation

पर क्या सच में इंडिया पढ़ रहा है और आगे बढ़ रहा है? क्योंकि पैसों के अभाव में आज भी कई बच्चे शिक्षा से कोसों से दूर हैं. ऐसे ही बच्चों को शिक्षित करने की ज़िम्मेदारी राजस्थान का एक पुलिसवाला निभा रहा है.

नाम है धर्मवीर जखर

धर्मवीर जखर चूरू के रहने वाले हैं और उन्होंने ग़रीब बच्चों को शिक्षित करने की एक नेक पहल की है. रिपोर्ट के मुताबिक, धर्मवीर ने बेसहारा-ग़रीब बच्चों के लिये एक स्कूल खोला है. इस स्कूल को खोलने का मकसद सिर्फ़ इतना है कि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित रहकर भीख मांगने को मजबूर न हो. धर्मवीर के इस स्कूल का नाम 'अपनी पाठशाला' है, जिसकी शुरूआत 2016 में की गई थी. आज यहां करीब 450 बच्चे पढ़ते हैं.

Cop
Source: IndiaTimes

कैसे आया स्कूल खोलने का आईडिया?

दरअसल, धर्मवीर थाने के बाहर कई बच्चों को भीख मांगते देखते थे. छोटे बच्चों के हाथों में किताबों की बजाये कटोरा देख धर्मवीर के मन में उनसे बात करने की इच्छा जागी. इसके बाद बच्चों से बात करने पर धर्मवीर को पता चला कि वो अनाथ हैं. ये जान कर धर्मवीर से रहा नहीं गया है और बच्चों के साथ उस जगह पहुंचे, जहां ग़रीब बच्चे अपना जीवन व्यतीत कर रहे थे. झुग्गियों में रह रहे इन बच्चों की जीवनशैली का धर्मवीर पर काफ़ी गहरा असर हुआ, जिसके बाद उन्होंने स्कूल खोल बच्चों को पढ़ाने की ठानी.

Children
Source: sambad

अपनी पाठशाला में पढ़ रहे इन बच्चों को वैन की सुविधा भी दी गई है, जिसमें पिक एंड ड्रॉप दोनों की सुविधा है. इसके साथ ही उन्हें कपड़ोंकी भी फ़्री सुविधा दी जाती है. इसके अलावा उन्हें पढ़ाई-लिखाई की सारी चीज़ें भी मुफ़्त दी जाती हैं.

इस बारे में धर्मवीर का कहना है कि कई यूपी और बिहार के परिवार भी यहां काम से लेकर खाने तक करने के लिये आते हैं. इन्हीं बच्चों को हम पढ़ने के लिये प्रेरित करते हैं, ताकि वो पढ़-लिख कर जीवन में कुछ कर सकें.

Cop
Source: Indiatimes

हैरानी वाली बात ये है कि धर्मवीर बच्चों शिक्षित करने की सारी ज़िम्मेदारी ख़ुद ही उठा रहे हैं. अब तक उन्हें राज्य या शिक्षा विभाग की तरफ़ से कोई मदद नहीं दी गई है. अगर राज्य या शिक्षा विभाग भी धर्मवीर का सहयोग करे, तो बच्चों को और भी कई सुविधायें दी जा सकती हैं.

धर्मवीर की इस नेक और क़ाबिले-ए-तारीफ़ पहल के लिये उनकी जितनी सराहाना की जाये कम है.

हमारी तरफ़ से इस पुलिवाले को सैल्यूट.

Life के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.