डोनाल्ड डक, मिक्की माउस, विनी द पू, प्लूटो, शेर खान… ये उन जानवरों की लिस्ट है, जिन्होंने कार्टून के रूप में आकर हमारे बचपन को और चहका दिया था. ये किसी की कल्पना का नतीजा था और इसी Imagination को एक आर्टिस्ट ने नेक्स्ट लेवल तक पहुंचाया है.

इस आर्टिस्ट का नाम है Thomas Subtil. ये कुछ दिनों पहले केन्या के टूर पर गए थे, वहां इन्होंने कुछ जंगली जानवरों की हसीन तस्वीरों को अपने कैमरे में कैद किया. उसके बाद इन्होंने इन फ़ोटोज़ को कंप्यूटर की मदद से एक नया रंग दिया. उन्होंने सोचा अगर इन जानवरों को इंसान नहीं देख रहा होता, तो ये इस दुनिया में क्या धमाल मचाते. उनकी इस लाजवाब Imagination का नमूना आपकी ख़िदमत में पेश है.

देख भाई बारिश हो रही है.

चल आज हम भी इंसानों की तरह रेस लगाते हैं.

लेट्स फ़ुटबॉल…

ये Meerkat शायद सुपमैन से इंस्पायर्ड है.

किलविश(शक्तिमान) भी इसे देख कर डर जाएगा.

बादलों की सैर पर निकले कुछ जिराफ़.

हाथी भाई क्या मैं तुम्हारे ऊपर सो सकता हूं?

अरे ज़रा संभल के…

ये गुब्बारा फूट गया तो क्या होगा.

भीड़ में भी तन्हाई है…

ये मेट्रो किसने बनाई, मैं तो इसमें फ़िट ही नहीं हो रहा.

चलो आज टॉयलेट यूज़ कर लेते हैं.

यार जंप मारूं या नहीं, कहीं पानी ज़्यादा ठंडा हुआ तो?

लगता है ये गेंडा जादूगर बनना चाहता है.

ये तो टोटल धमाल फ़िल्म का सीन लग रहा है.

जब Pig बना सुपरमैन.

भैया बैलेंस बना लेना मैं भी आ रहा हूं.

जंगल में पैदल बहुत घूम लिए, अब मेट्रो का सफ़र किया जाए.

गले मिलने का नया स्टाइल.

चल आज से तुझे भी स्कूल जाना है.

ये कपड़े कब सूखेंगे?

पंख लगाकर उड़ने को सिरयसली ले लिया इन्होंने.

रजनीकांत का फ़ैन लग रहा है ये बंदर.

चलो आज रोलर कोस्टर राइड पर चला जाए.

अभी मंज़िल बहुत दूर है.

ये सर्कस वाले कैसे बैलेंस कर लेते हैं, हमसे तो होता नहीं.

अगली मेट्रो कितनी देर में आएगी?

आज से तुम्हारे और मेरे रास्ते अलग हैं.

असली मज़ा सब के साथ आता है.

सभी लाइन से चेकिंग करा लो, तभी मेट्रो में घुस पाओगे.

कल्पना की ये छलांग आपको कैसी लगी ? कमेंट कर हमसे भी शेयर करें.