इतिहास के पन्नों में बहुत सी ऐसी रानियों के नाम दर्ज हैं, जिन्होंने अपनी शक्ति से एक नया अध्याय लिखा है. इन्हीं रानियों में एक रानी अमीना भी आती हैं. उन्होंने ज़िम्मेदारियों का निर्वाहन कर अपने साम्राज्य का विस्तार किया.

Queen Ameena
Source: roar

ज़ाज़ाऊ यानि ‘ज़रिया’ साम्राज्य का विस्तार

कहा जाता है कि रानी अमीना ने ‘ज़रिया’ को कुछ इस तरह विकसित किया, जो उनकी पीढ़ी में कोई नहीं कर सका था. रानी अमीना युद्ध कौशल में निपुण थी. यही कारण था कि उन्होंने अपने साम्राज्य को बढ़ाने के लिए कई युद्धों में विजय हासिल की. ज़रिया की रानी ने अपने तेज़ दिमाग़ और ताक़त का इस्तेमाल कर वहां किले बंदी से लेकर व्यापार तक का विस्तार किया.

Ameena
Source: Roar

कडूना के जाज़ा क्षेत्र में हुआ था जन्म

रानी अमीना का जन्म 1533 में कडूना के जाज़ा क्षेत्र में हुआ था. उनकी मां का नाम रानी बकवा द हाबे था, जो अमीना के दादा हाबे ज़ज्जाऊ नोहिर की मौत के बाद से ज़ाज़ाऊ साम्राज्य की देख-रेख कर रहीं थीं. अमीना ने छोटी सी उम्र से ही सैन्य के क्षेत्र में ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था. वो अपने दादा के साथ सरकारी मामलों में भी भाग लेने लगी थीं.

Queen
Source: roar

अमीना का छोटा भाई बना था साम्राज्य का शासक

1566 में अमीना की मृत्यु के बाद उनके भाई करामा को ज़ाज़ाऊ साम्राज्य का नया शासक बना दिया गया. भाई के शासलकाल में अमीना ने ज़ाज़ाऊ कैल्वेरी और मिलिट्री में एक बहादुर योद्धा के तौर पर अपनी पहचान स्थापित की. इस दौरान उन्होंने धन और शक्ति दोनों दोनों ही पाये. पर साल 1576 में करामा की मृत्यु हो गई, जिसके बाद अमीना को साम्राज्य की नई हाबे के तौर पर चुना गया.

War
Source: roar

हाबे बनते ही उन्होंने सबसे पहले ज़ाज़ाऊ से जुड़े सभी व्यापार मार्गों का विस्तार किया. इसके साथ ही उन्होंने व्यापार करने वाले लोगों को सुरक्षा प्रदान करने का वादा भी किया. नई हाबे ने न सिर्फ़ साम्राज्य की सीमा को बढ़ाया, बल्कि उसे पहले से ज़्यादा मज़बूत भी बनाया.

Source: roar

20 हज़ार लोगों की विशाल सेना का किया नेतृत्व

अपने शासनकाल में अमीना ने 20 हज़ार लोगों की विशाल सेना का नेतृत्व किया था. इसके साथ ही उन्होंने जीते हुए शहरों का विलय अपने राज्य में कर लिया था. ये भी कहा जाता है कि अमीना जिस राज्य को हराती, उसके एक सैनिक के साथ रात गुज़ारती और सुबह होने के बाद मार डालती. वो भी इसलिये ताकि वो किसी इंसान को अमीना के बारे में न बता पाये.

इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि उन्हें अपनी शक्ति खोने का डर था, इसलिये उन्होंने कभी शादी नहीं की. लगभग 34 सालों तक अमीना ने ज़ाज़ाऊ पर राज किया. इसके साथ ही उन्हें ‘वाल्स ऑफ़ अमीना’ के लिए भी जाना जाता है. यही नहीं, उन्होंने आखिरी दम तक अपनी वीरता का प्रदर्शन किया. वो नाइजीरिया के बिदा में लड़ते-लड़ते शहीद हो गई थीं.

आप लागोस राज्य के नेशनल आर्ट्स थिएटर में रानी अमीना की प्रतिमा देख सकते हैं.

Life की और स्टोरी पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.