भारत में अधिकतर लोग 'नागा साधुओं' को लेकर यही जानते हैं कि वो हर वक़्त समाधी में लीन या भांग के नशे में चूर रहते हैं, लेकिन ऐसा कतई नहीं है. दरअसल, तन पर नाममात्र के कपड़े और बदन पर भष्म लपेटे नागा साधुओं का इतिहास योद्धाओं का रहा है.

Source: hindujgriti

अगर आपको ऐसा लगता है कि हमारे संत समाज ने भारत की आज़ादी के लिए कोई लड़ाई नहीं लड़ी है तो आप ये जानकार हैरान रह जाएंगे कि 'नागा साधुओं के युद्ध' में भारत माता की रक्षा के लिए 2000 साधु संत शहीद हो गये थे. कहा जाता है कि इस युद्ध में दुश्मन 4 कदम भी आगे नहीं बढ़ पाया था.

Source: tutorialspoint

इतिहासकार बताते हैं कि तब नागा साधुओं के एक हाथ में तलवार थी दूसरे में धार्मिक किताबें. इस दौरान संतों को धर्म भी बचाना था और देश भी. उस वक़्त अगर अफ़गान शासक आगे बढ़ जाते तो लाखों लोगों का कत्लेआम हो सकता था. हिन्दू मंदिर तोड़ दिए जाते, लेकिन हर साधू ने अपनी बहादुरी का परिचय दिया और मरने से पहले एक-एक साधु ने सैंकड़ों दुश्मनों को धूल चटा दी थी.

Source: navbharattimes

जब सन्यासियों ने जोधपुर को बचाया था

कहा जाता है कि जब क़ाबुल और बलोचिस्तान से आये मुग़लों ने जोधपुर पर आक्रमण किया तो चारों तरफ़ हाहाकार मच गया था. मंदिर तोड़े जा रहे थे और कत्लेआम हो रहा था. मुस्लिम शासकों ने हर व्यक्ति पर भारी कर लगा दिया था. तब इन्हीं सन्यासियों ने मुस्लिम शासकों करारी शिक़स्त दी थी.

Source: wpclipart

जब क्रूर अहमदशाह अब्दाली ने किया था भारत पर आक्रमण

कहा जाता है कि जब अहमदशाह अब्दाली दिल्ली और मथुरा पर आक्रमण करता हुआ गोकुल तक आ गया था. इस दौरान उसके सैनिक लोगों का कत्लेआम कर रहे थे. महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहे थे और बच्चे देश के बाहर बेचे जा रहे थे. तभी गोकुल में अहमदशाह अब्दाली का सामना नागा साधुओं से होता है.

Source: celebritynews

क़रीब 5 हज़ार साधुओं की सेना कई हज़ार सैनिकों से लड़ गयी थी. पहले तो अब्दाली साधुओं को हल्के में ले रहा था लेकिन तभी अब्दाली को एहसास हो गया था कि ये साधू अपनी भारत माता के लिए जान तक दे सकते हैं. इस युद्ध में 2000 नागा साधु वीरगति को प्राप्त हुए थे. इस युद्ध की सबसे ख़ास बात ये रही थी कि दुश्मनों की सेना चार कदम भी आगे नहीं बढ़ा पाई थी. जो जहां था वहीं ढेर कर दिया गया था या फिर पीछे हटकर भाग गया था.

इस तरह जोधपुर की ओर बढ़ रही अब्दाली की सेना को नागा साधुओं ने गोकुल से बैरंग ही लौटा दिया.

Source: quora

तबसे कई मुस्लिम शासक जब ये बात सुनते ही कि युद्ध में नागा साधु भाग ले रहे हैं तो वो लड़ते ही नहीं थे. तो इस प्रकार से साधु-संतों ने देश की आज़ादी के लिए भी कई युद्ध लड़े हैं और अपनी कुर्बानियां दी हैं.

आपको बता दें कि आप इस युद्ध की विश्वसनीयता को जांचने के लिए कुछ पुस्तकें भी पढ़ सकते हैं. इनमें लेखक डा. नित्यानंद की क़िताब 'भारतीय संघर्ष का इतिहास'