आज 'टाइगर डे' है, ऐसे में क्यों न आज हमारे बचपन के इस हीरो को याद कर लिया जाए. सच कहूं तो हमारे बचपन की हर कहानी का हीरो टाइगर आज सिर्फ़ किताबों में ही खोकर रह गया है क्योंकि भारत में बाघों की संख्या सिर्फ़ 3 हज़ार ही रह गई है.

Source: thehansindia

टाइगर यानी बाघ की कहानियां तो आपने बहुत सुनी होंगी, ये मेरी रियल लाइफ़ कहानी है. जिन लोगों ने टाइगर की कहानियां सिर्फ़ किताबों में ही पढ़ी हैं, आज मैं उन्हें बाघ की एक ऐसी ही रियल कहानी बताने जा रहा हूं.

Source: virginmediatelevision

मेरा जन्म उत्तराखंड के चमोली ज़िले के एक ऐसे गांव में हुआ, जो शहर से काफ़ी दूर है. एक ऐसा गांव जहां सड़क और बिजली कुछ साल पहले ही पहुंची है. मुझे आज भी याद है, गांव के चारों ओर घने जंगल हुआ करते थे. रात 8 बजे के बाद लोग घर से बाहर निकलने से डरते थे. उस दौर में रात के समय हमारे घरों के आस-पास बाघ आ जाया करते थे.

Source: awarenessdays

ये रही मेरी कहानी-

बात करीब 20 साल पुरानी है. उस वक़्त हम गांव में ही रहा करते थे. सब कुछ सही चल रहा था. अचानक एक-एक करके गांव के सभी कुत्ते गायब हो रहे थे. गांव वाले कुत्तों के गायब होने से हैरान थे. हैरानी की बात ये थी कि सभी कुत्ते रात के समय गायब हो रहे थे. अब लोग ये जानना चाहते थे कि आख़िर कुत्ते रात में ही गायब क्यों हो रहे हैं?

Source: mangaloretoday

एक दिन गांव के कुछ लोगों ने देर रात तक जागने का फ़ैसला किया. वो एक ऐसे घर में छुपकर बैठ गए, जिनके पास कुत्ता था. घर के आस-पास काफ़ी अन्धेरा था. घने अंधेरे से बचने के लिए बस एक मोमबत्ती जली हुई थी. इस दौरान कुत्ते को घर के बाहर ही बांध दिया था.

Source: livemint

रात के करीब 11 बजे होंगे इतने में कुत्ते को आस-पास से कुछ सुगबुगाहट सुनाई दी. इतने में सभी लोग अलर्ट हो गए. तभी उन्होंने दूर अंधेरे में किसी जानवर की दो चमकती आंखें दिखाई दीं. वो धीरे-धीरे कुत्ते के करीब आ रही थीं. इतने में कुत्ता ज़ोर ज़ोर से भौंकने लगा, गांव वाले कुछ समझ पाते, कुत्ते का भौंकना बंद हो गया.

Source: jagran

जब तक गांव वाले कुत्ते के पास पहुंचे तो देखा कि कुत्ता गायब था. कुत्ते की हल्की-हल्की चीखने की आवाज़ें आ रही थी. आवाज़ सुनकर गांववाले भी उसी तरफ़ भागे. इतने में किसी ने टॉर्च मारकर देखा कि एक बाघ कुत्ते को मुंह से घसीटकर ले जा रहा है. कुत्ता लगभग मर चुका था, इसलिए गांव वालों ने उसे जाने दिया. इस दौरान गांव वालों को ये पता चल चुका था कि बाघ कुत्ते को किस जगह पर ले गया है.

Source: nationalgeographic

अगली सुबह करीब 10 बजे गांव के कुछ लोग उस जगह पर गए. ये जगह हमारे घर से एक घर छोड़कर खेत के किनारे पर एक पेड़ की आड़ थी. जहां पर लोगों ने सूखी घास का ढेर बनाया हुआ था. जब लोग इस जगह पर पहुंचे तो वहां का मंज़र देख हर कोई हैरान रह गया. लोगों को वहां पर बाघिन के तीन छोटे-छोटे शावक मिले, लेकिन उस समय बाघिन वहां मौजूद नहीं थी.

Source: rmolbengkulu

इस जगह पर बिखरी हड्डियों को देख गांववाले समझ गए कि कुत्तों के गायब होने के पीछे इसी बाघिन का हाथ है. इसके बाद, जब बाघिन को एहसास हुआ कि इस जगह पर इंसान पहुंच चुके हैं तो वो अपने बच्चों को लेकर ख़ुद ही वहां से चला गया.

Source: patrika

मैं कई बार अपने गांव के बारे में सोचता हूं, तो मन ही मन सिरहन पैदा हो जाती है कि हम तब बाघों के बीच जिया करते थे. हालांकि, इतने सालों बाद पहाड़ों से दूर शहर के लोगों के बीच जब बाघों के बारे में बात करता हूं, तो खुद को ख़ुशक़िस्मत मानता हूं कि बाघ की एक झलक के लिए मुझे चिड़ियाघर के चक्कर नहीं काटने पड़े!.