दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं:

एक वो जो 9 से 5 की नौकरी करते हैं
एक वो जो घर पर बैठे-बैठे ही लाखों कमा लेते हैं
मज़ाक नहीं कर रहे हैं और न ही 9 से 5 की नौकरी को ग़लत कह रहे हैं. 4 घंटे घर से काम करने और हज़ारों कमाने का मौका देने वाले विज्ञापन आपने भी देखे होंगे. इन विज्ञापनों पर यक़ीन करना ज़रा मुश्किल होता है.

Source: https://riskandinsurance.com/desk-job-dangers/

ऐसे ही विज्ञापनों की सहायता से दिल्ली के मिलिंद गुप्ता करोड़पति बनने की राह पर हैं.


India Times की रिपोर्ट के मुताबिक, Orkut ने मिलिंद को Fiverr Website पर Redirect किया. इस वेबसाइट पर किसी भी काम के बदले कैश मिल रहा था. मिलिंद ने कस्टमर्स को लहरों के साथ Beach पर उनका नाम लिखकर देने का ऑफ़र दिया.

ये पूरी तरह से 'जुगाड़' था क्योंकि ख़ुद मिलिंद भी Beach नहीं गए थे. मिलिंद ने कहा,
'ये सही नहीं था पर मैं हर दूसरे इंसान की तरह ही Try और Test कर रहा था. क़िस्मत से आईडिया चल पड़ा और ऑर्डर्स मिलने लगे.'

इंटरनेट के संसार पर ही मिलिंद को एक ऑनलाइन वेबसाइट मिली, जो CPA (Cost Per Action) के हिसाब से कमाई के अच्छे मौके दे रही थी. सर्वे के लिए फ़ॉर्म भरने वाले विज्ञापन देखे हैं न, वही. फ़ॉर्म्स भरवाकर विज्ञापन कंपनी मुनाफ़ा कमाती हैं और थोड़ा कमीशन आपको भी मिलता है.

इस काम में मिलिंद को इतना मुनाफ़ा हुआ कि उन्हें 2 महीने में 36 लाख कमा लिए. CPALead मे उनके बॉस Peter Tarr ने उन्हें Business Development Head बना दिया.

2 साल में ही वे अपनी डेस्क जॉब से बोर हो गए और उन्होंने अपने बॉस के साथ ही कंपनी छोड़ दी.


CPALead छोड़ने के बाद मिलिंद ने डिजिटल मार्केटिंग और पेड एडवर्टाइज़िंग की बारीकियां सिखीं. इसके बाद मिलिंद ने Drop-Shipping में क़िस्मत आज़माना शुरू किया. Drop-Shipping में कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन सेल्स डील में एक Middleman की तरह काम करता है. करना सिर्फ़ इतना होता है...
कंपनी के प्रोडक्ट की मार्केटिंग करो. जब कस्टमर ऑर्डर प्लेस करे तो उन्हें कंपनी से सीधे ऑर्डर भेजना. इसके बदले थोड़ी कमीशन मिलती है.

मिलिंद की क़िस्मत इस आईडिया ने बदल दी. उन्होंने Shopify पर Antique Tin प्लेट्स बेचकर 10000 डॉलर कमाए.

मिलिंद के पास सिर्फ़ बी.कॉम की डिग्री है. अपनी Success पर मिलिंद का कहना है,
'जल्द से जल्द अमीर बनने का कोई तरीका नहीं है. ईमानदारी, धैर्य और सीखने की चाहत से ही कुछ किया जा सकता है. मैंने 12 साल के बच्चे से भी सिखा है.'

तो भाईयों! जिन्हें भी 9 से 5 की नौकरी नहीं जम रही, कुछ तूफ़ानी कर सकते हो!