अक़सर ट्रेन, बस, फ़्लाइट में सफ़र के दौरान रोते हुए शरारती बच्चे मिल जाते हैं. उन्हें तो फिर भी चुप करवा दिया जाता है पर छोटे और रोते बच्चों को शांत करवाना नामुमकिन है. अन्य यात्री की बात छोड़िए, बच्चों के माता-पिता भी परेशान हो जाते हैं.


माता-पिता बच्चे को चुप करवाने की जद्दोजहद में लगे रहते हैं और उन्हें सहयात्रियों की चिढ़ भी झेलनी पड़ती है.

सहयात्रियों को उसके बच्चे के रोने से असुविधा न हो इसलिए दक्षिण कोरिया कि इस मम्मी ने पूरी व्यवस्था की.


Unilad की ख़बर के मुताबिक, इस मम्मी ने सीओल, दक्षिण कोरिया से सैन फ़्रैंसिस्को तक की 10 घंटे की फ़्लाइट में बैठे 200 से ज़्यादा सहयात्रियों के लिए छोटे-छोटे पैकेट्स बनाए थे, जिनमें कुछ कैंडीज़, इयरप्लग्स और एक नोट रखा था.

Hello मैं Junwoo हूं और मैं 4 महीने का हूं. आज मैं अपनी मां, दादी मां के साथ अपनी आंटी से मिलने अमेरिका जा रहा हूं.

मैं ज़रा घबराया हुआ हूं क्योंकि ये मेरी ज़िन्दगी की पहली फ़्लाइट है, जिसका मतलब है कि मैं चिल्ला सकता हूं, रो सकता हूं. मैं शांत रहने की कोशिश करूंगा, पर वादा नहीं कर सकता. माफ़ कीजिएगा.

मेरी मम्मी ने आपके लिए छोटा सा पैकेट बनाया है. इसमें कुछ कैंडीज़ और इयरप्लग्स हैं. अगर मेरी वजह से ज़्यादा शोर हो, तो इसका इस्तेमाल करिएगा. यात्रा का आनंद लें. धन्यवाद.

एक यात्री Dave Corona ने बताया कि Junwoo ने चूं तक नहीं की. Dave ने ही फ़ेसबुक पर Junwoo और उसकी मां के बारे में लिखा.


मम्मी ने बता दिया कि अच्छा सहयात्री किसे कहते हैं.