पूरे देश में चुनाव की सरगर्मी है. लोकतंत्र का सबसे बड़ा त्यौहार ज़ोर-शोर से मनाया जा रहा है.


'त्यौहार' के बीच में हर जगह से अप्रिय ख़बरें आती रहती हैं. कहीं किसी कार्यकर्ता की हत्या, तो कहीं इवीएम में गड़बड़ियों की.

ज़ाहिर है दोस्तों के बीच में बहस चालू होंगी. पार्टी के नाम पर सच्चे दोस्त आपस में ही भिड़ रहे होंगे. दोस्त ही क्यों, परिवार के सदस्यों से भी कुछ लोगों की बहस हो रही होंगी.


चुनाव तो ठीक है पर इसकी वजह से दिलों में दूरियां नहीं आनी चाहिए. राजनैतिक मत अलग हो सकते हैं पर दोस्ती वैसी ही रहनी चाहिए. इसका बहुत ही ख़ूबसूरत उदाहरण पेश किया है केरल के इन दोस्तों ने:

ट्विटर पर Tinu Cherian Abraham ने ये तस्वीर शेयर की और लिखा

ये केरल में ही हो सकता है.
राजनैतिक मतभेद की वजह से अपने दोस्त मत खोना

Tinu ने एक और तस्वीर भी शेयर की.

Tinu के ट्वीट को 10 हज़ार से ज़्यादा Likes और 2700 से ज़्यादा Retweets मिले हैं.

ये तस्वीर Sandeep Payyeri ने सबसे पहले अपने फ़ेसबुक टाइमलाइन पर डाली थी. Sandeep, Madhyamam Daily में फ़ोटोजर्नलिस्ट हैं.

तस्वीर ने ट्विटर का दिल जीत लिया-

और फ़ेसबुक पर भी कमेंट्स की बौछार हो गई-

चुनाव और राजनैतिक मतभेद के बीच अपने दोस्त मत खो देना.