घूमने-फिरने का शौक हर किसी को होता है. पहाड़ों का खुला वातावरण, साफ़ सुथरी सड़कें, हरे-भरे खेत, बर्फ़ से ढकी हिमालय की चोटियां, नदियां, झरने और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ हर किसी को आकर्षित करते हैं.

Source: diduknowonline

उत्तराखंड से होने के नाते मुझे हमेशा प्रकृति से बेहद प्रेम रहा है लेकिन पिछले कुछ सालों से पहाड़ों की आबो-हवा बेहद ख़राब हो चुकी है. इसका सबसे बड़ा कारण है अत्यधिक मात्रा में आये पर्यटकों द्वारा फैलाई गयी गंदगी.

Source: indianluxurytrains

शहरों में रह रहे लोगों के लिए पहाड़ों का महत्व कुछ अलग तरह का होता है. हर साल लाखों पर्यटक उत्तराखंड, हिमाचल और जम्मू-कश्मीर की वादियों में छुट्टियां बिताने जाते हैं. वापस लौटने पर वो वहां शहर की गंदगी छोड़ आते हैं. पर्यटकों की मौज-मस्ती के अड्डे बन चुके ये हिल स्टेशंस इसकी कीमत चुका रहे हैं.

Source: traveltriangle

घूमना-फिरना लोगों का अपना फ़ैसला है लेकिन पर्यटक जिस तरह से इन ख़ूबसूरत जगहों को गंदा करके वापस लौटते हैं, वो बेहद निराशाजनक है. हिल स्टेशंस छुट्टियों को यादगार बनाने के लिए होते हैं न कि गंदगी फैलाने के लिए.

Source: nepalitimes

अकसर देखा जाता है कि पर्यटक जगह-जगह पॉलीथीन, पानी की खाली बोतलें, चिप्स के पैकेट और शराब की बोतलें फेंककर पहाड़ों की रौनक छीनने का काम कर रहे हैं. जिन गांववालों ने आज तक कभी बियर की बोतल तक नहीं देखी थी, उन्हें आज बियर की खाली बोतलें समेटनी पड़ रही हैं.

Source: shutterstock

माना कि पर्यटकों की वजह से हिल स्टेशंस के निवासियों को रोज़गार मिलता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हम बेपरवाह होकर जहां-तहां कुछ भी फेंक दें. वो भी ये जानते हुए कि यही पहाड़ हमें सुकून भरी ज़िंदगी दे रहे हैं.

Source: laughingcolours

आज पहाड़ों में सांस लेना भी मुश्किल हो रहा है, जिसका सबसे बड़ा कारण है प्रदूषण की बढ़ती समस्या. पहाड़ों की आबो हवा ख़राब करने का काम हम और आप जैसे लोग ही कर रहे हैं.

Source: copalindia

उत्तराखंड का होने के नाते मेरा सभी पर्यटकों से यही निवेदन है कि अगर आप किसी भी टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर छुट्टियां मानाने जा रहे हैं, तो गंदगी फैलाने से बचें.

Source: france24

अगर आप किसी हिल स्टेशन पर छुट्टियां बिताने जा रहे हैं, तो अपनी कार ले जाने के बजाय वहां के लोकल ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें तो बेहतर होगा. इसके दो फ़ायदे हैं-

पहला- प्रदूषण नहीं होगा.

दूसरा- हिल स्टेशंस के लोगों को रोजगार मिल जायेगा.

किसी नदी में जा रहे हैं तो उसे गंदा न करें, ट्रेकिंग वाली जगहों पर पॉलीथीन, पानी की खाली बोतलें, चिप्स के पैकेट और शराब की बोतलें न फेंके, पहाड़ की धरोहरों को नुकसान न पहुंचाएं, वहां के कल्चर का सम्म्मान करें.