सुबह उठते ही कानों में पड़ने वाले ट्रैफ़िक का शोर हो या शाम ढले पड़ोसियों के लड़ने की आवाज या गहरी रात में कुत्तों के भौंकने की आवाज़, शोर हमारी ज़िंदगी का हिस्सा बन चुका है. 

ऐसे में हमारी बस एक ही चाहत होती है कि "काश हम किसी शांत जगह पर चले जाते!" अगर आप ऐसी जगह की तलाश में हैं तो अमेरिका के मिनेसोटा राज्य में स्थित Orfield Laboratories का दौरा कर सकते हैं. यहां है दुनिया का सबसे शांत कमरा.

Source: smithsonianmag.com

इस लैब में एक ऐसा Anechoic चैंबर है जो बहुत बेहतरीन तरीके से Sound Waves को सोख सकता है. इसके लिए चैंबर में Sound या Electomagnetic Waves को सोखने में सक्षम सतहों (चीज़ों) का इस्तेमाल किया गया है. ये जगह इतनी शांत हो जाती है कि शोर का स्तर नेगेटिव चला जाता है, -9.4dBA तक.  

आश्चर्यजनक बात ये है कि इतने शांत कमरे में आज तक कोई इंसान 45 मिनट से ज़्यादा वक़्त नहीं बिता पाया है. कहा जाता है कि इसमें इससे ज़्यादा समय तक रहना किसी को पागल बना सकता है.

Source: Indiatimes

Hearing Aid बनाने वाली एक कंपनी (Hearing Aid Know) से बात करते हुए लैब के संस्थापक ने बताया, "हम लोगों को इस चैंबर में अंधेरे में बैठने के लिए चैलेंज करते हैं - एक व्यक्ति इसमें 45 मिनट के लिए रुका रहा. जब कमरा शांत होगा तो आपके कान भी उसी के अनुकूल हो जाते हैं. कमरा जितना शांत होगा, आप उतना ही ज़्यादा सुनेंगे. आप अपने दिल की धड़कन सुनेंगे, कभी-कभी आप अपने फेफड़ों को सुन पाएंगे, आप अपने पेट के अंदर की गुड़-गुड़ाहट भी सुन सकते हैं. Anechoic चैंबर में आप ही शोर बन जाते हैं."

 ऐसा कमरा बनाया क्यों गया?

ये चैंबर ऑडियो प्रोडक्ट्स की टेस्टिंग के लिए बनाया गया है ताकि उनके ऑडियो आउटपुट को और बेहतर बनाया जा सके. इस लैब का उपयोग अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष की शांति का अनुभव देने के लिए और उनको इतनी शांत वातावरण के प्रति अभयस्त बनाने के लिए होता है.

आख़िरी में यही कहा जा सकता है कि अति सर्वत्र वर्जयेत्.