दुनियाभर में ऐसी जगह हैं, जहां इंसान अकेले होते हुए भी कभी अकेला महसूस नहीं करता. एक डर का साया हमेशा इर्द-गिर्द मौजूद रहता है. इन जगहों पर खड़े होकर एक अजीब सी सिहरन महसूस होती है. ये एहसास बिल्कुल वैसा ही होता है जैसा कभी हवा के अचानक से गुज़र जाने पर लगता है. ऐसी ही एक डरावनी जगह (Haunted Place) बारबाडोस द्वीप (Island Of Barbados) पर Christ Church Parish है, जो अपने नाचते-डोलते ताबूतों (Dancing Coffins) के लिए विख्यात है.

mirror

कहा जाता है कि यहां मौजूद एक फ़ैमिली टॉम्ब के अंदर कुछ अजीबो-गरीब भुतहा गतिविधियां होती रहती हैं. 

18वीं शताब्दी में बनी थी अंतिम संस्कार की जगह

साल 1724. जेम्स इलियट नाम के शख़्स ने इसे अंतिम संस्कार की जगह बनाया था. 12 फीट गहरी और 6 फीट चौड़ी इस जगह में नीचे उतरने के लिए सीढ़िया भी बनवाई थी. साथ में यहां संगमरमर का एक स्लैब भी रखा था.

Dancing Coffins

कहते हैं कि 1808 में चेस फ़ैमिली ने इसे ख़रीद लिया, मगर 18वीं सदी के अंत तक ये इलियट और उनकी पत्नी के कब्ज़े में था. बाद में ये जगह वालरॉन्ड फ़ैमिली ने ख़रीद ली. मगर झटका तब लगा, जब यहां रखे ताबूत अपनी जगह से इधर-उधर हिलने लगे.

ग़ायब मिले पहले के ताबूत

कहते हैं जब Thomasina Goddard नाम की महिला का ताबूत द़फनाने के लिए जब मकबरा खोला गया तो लोग सहम गए. क्योंकि, यहां रखा इलियट और उनकी पत्नी का ताबूत गायब था. उस पल से ही लोगों ने इस मकबरे को भूतिया मान लिया था. मगर फिर चेस फ़ैमिली ने इस जगह को ख़रीद लिया और अपनी 2 साल की बेटी को दफ़नाया. फिर 4 साल तक यहां कोई नहीं आया. हालांकि, जब वो दोबारा अपनी दूसरी बेटी को दफ़नाने आए तो छोटी बच्ची का ताबूत अपनी जगह से अलग ऊपर की ओर रखा था.

media

इतना ही नहीं, जब ख़ुद थॉमस चेस की मौत हुई और उसका ताबूत रखने के लिए फिर मकबरा खुला तो वहां के सारे ताबूत इधर-उधर हो चुके थे. उसके बाद जब भी किसी शव को दफ़नाने के लिए मकबरा खोला जाता तो सारे ताबूत इधर-उधर मिलते थे, मानो वो मकबरे के अंदर नाचते हों.

आज तक नहीं खुला इस भुतहा मकबरे का रहस्य

इस रहस्यमयी मकबरे की घटनाओं की ख़बर जल्द ही पूरे इलाके में फैल चुकी थीं. ऐसे में बारबाडोस के गवर्नर सर स्टेपलटन कॉटन ने इसकी जांच का आदेश दिया. शक था कि यहां कोई ख़ूफ़िया रास्ते से आकर ताबूतों के साथ छेड़छाड़ करता होगा. मगर ऐसा कोई रास्ता नहीं मिला. मकबरे में रेत भी डलवाई गई, ताकि किसी के पांव के निशान भी मिल सकें, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला. भूकंप और बाढ़ से भी इन ताबूतों के हिलने का कोई सुबूत नहीं मिला.

seconddecadenet

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड की 6 भुतहा जगहें, कहते हैं यहां पर्यटक नहीं आत्माएं घूमती हैं

ऐसे में इस जगह का रहस्य कभी सुलझ ही नहीं पाया. भयानक ये है कि जब भी मकबरा खोला गया, वहां ताबूत अपनी जगह से हटे हुए ही मिले. ऐसे में इन ताबूतों को हटाकर दूसरी जगह रख दिया गया. (Dancing Coffins)