बारिश में तो अनगिनत बार भीगे होगे. इसकी बूंदों से खेलना भी सबको अच्छा लगता है. बारिश की सुबह में फूलों पर पड़ी बूंदें से ख़ूबसूरत कुछ और है ही नहीं. क्यों सही कहा न? बारिश की तारीफ़ जितनी की जाए वो तो कम है इसलिए ख़ुद को रोकते हुए सीधे मुद्दे पर आती हूं और बताती हूं कि बारिश के बारे में इतने कसीदे क्यों पढ़ रही हूं? बारिश की बूंद हाथ में कई बार ली होगी और फूलों पर भी जमी हुई देखी होगी, लेकिन कभी सोचा है ये गोल क्यों होती है? इस रहस्य से पर्दा अब उठेगा.

do you know why are rain drops round shaped
Source: staticflickr

ये भी पढ़ें: जानना चाहते हो कि आखिर ट्रेन की पटरियों पर कभी जंग क्यों नहीं लगती है?

दरअसल, बचपन में फ़िज़िक्स में पृष्ठ तनाव (Surface Tension) का चैप्टर तो पढ़ा ही होगा, बारिश की बूंद के गोल होने के पीछे Surface Tension का सिद्धांत ही है, जो पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के कारण होता है. बारिश का पानी ही नहीं, बल्कि कोई भी लिक्विड चीज़ जो ऊंचाई से धरती पर आकर गिरेगी वो बूंदों में बदल जाती है.आइए जान लेते हैं पृष्ठ तनाव (Surface Tension) क्या होता है?

Surface tension is the tendency of liquid surfaces at rest to shrink
Source: meteorologiaenred

ये भी पढ़ें: भारत के बारे में ऐसे 15 अविश्वसनीय तथ्य, जो हर हिन्दुस्तानी को हैरान कर देंगे

इसके बारे में मध्यप्रदेश के सीधी में रहने वाले इंजीनियर संतोष कुमार ने बहुत ही आसान शब्दों में बताया है कि  

Surface tension is what allows objects with a higher density
Source: rasset
पृष्ठ तनाव किसी द्रव की सतह का वो गुण है जिसके कारण ये प्रत्यास्थ ((Elasticity) की तरह फ़ैल जाती है या सिकुड़ जाती है. द्रव के इस गुण को किसी द्रव की गोलाकार बूंदों के पास और साबुन के बुलबुलों के पास भली भांति देखा जा सकता है.

ये है इसका वैज्ञानिक कारण

 surface tension wins and pulls the drop into a spherical shape.
Source: pixabay

गुरुत्वाकर्षण की वजह से सबसे न्यूनतम आकार गोलाकार होता है. इसलिए जैसे-जैसे बारिश का पानी पृथ्वी के पास आता है वो गोल आकार की हो जती जाती है. क्योंकि गोलाकार का क्षेत्रफल भी कम होता है जिसकी वजह से बारिश की बूंदें गोल हो जाती हैं.