Dabur के प्रोडक्ट्स भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में फ़ेमस हैं. इंडिया में तो इसके प्रोडक्ट लोग आंख मूंद कर ख़रीद लेते हैं. आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स बनाने वाली ये कंपनी 138 साल पुरानी है. डाबर हाजमोला से लेकर डाबर च्यवनप्राश तक बहुत सारे प्रोडक्ट तो बहुत से लोगों के बचपन का हिस्सा रहे हैं.

आयुर्वेदिक दवा बनाने वाली छोटी सी कंपनी के रूप में इसकी शुरुआत कोलकाता के एक छोटे से कमरे में हुई थी. आज डाबर ग्रुप की गिनती इंडिया की अग्रणी FMCG Companies में होती है. Dabur India Ltd. का सालाना टर्नओवर लगभग 7,680 करोड़ रुपये से अधिक है. इसकी मार्केट वैल्यू 48,800 करोड़ रुपये से ज़्यादा है.   

dabur products list
Source: moneycontrol

भारत में भरोसेमंद नाम बन चुका डाबर दुनिया की सबसे बड़ी आयुर्वेदिक और नेचुरल हेल्थ केयर कंपनी है. इसे अपना नाम कैसे मिला इसकी कहानी बहुत ही दिलचस्प है. चलिए आज जानते हैं इसके बारे में…  

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के फ़ाउंडर को बदलना पड़ा था कंपनी का नाम

डॉक्टर बर्मन का सपना   

Dr. S. K. Burman
Source: thelittletext

डाबर की कहानी की शुरुआत होती है पश्चिम बंगाल के एक डॉक्टर के प्रयास से. उनका सपना था कि देश के दूर-दराज के इलाके में रहने वाले ग़रीब लोगों को भी प्रभावी और किफ़ायती इलाज मिले. इस डॉक्टर का नाम था एस. के. बर्मन. 1880 के दशक में भारत में डॉक्टर और दवाइयों का ख़र्च उठाना सबके बस की बात नहीं थी. यही वजह है कि उस ज़माने में हैजा और कालरा जैसी बीमारियों भी लोगों पर काल बनकर टूटती थीं और इन्हें महामारी कहा जाता था. 

ये भी पढ़ें: रोज़ साबुन से रगड़-रगड़ नहाने वालों क्या देश के पहले स्वदेसी साबुन के बारे में जानना चाहते हो? 

बनाई सस्ती दवाइयां

Dabur History
Source: nextbigbrand

उस दौर में डॉ. बर्मन ने कुछ किफ़ायती दवाइयां आयुर्वेद की मदद से बनाई और इनसे लोगों का इलाज करने लगे. उनकी दवाइयां कारगर साबित हुई और लोग जल्दी स्वस्थ होने लगे. इस तरह डा. बर्मन भी लोगों के बीच काफ़ी प्रसिद्ध हो गए.  दवाओं की इस सफलता से प्रसन्न होकर डॉ. बर्मन ने इन्हें बड़े पैमाने पर बनाने के बारे में सोचा ताकी ग़रीब लोगों को भी इलाज कम से कम क़ीमत पर मिल सके. इस उद्देश्य के साथ उन्होंने कोलकाता में अपने छोटे से कमरे में अपनी कंपनी की नींव रखी. 

ऐसे मिला नाम Dabur

 How Dabur Gets Its Name
Source: breakingsamachar

अब इसका नाम क्या रखा जाए ये भी एक दुविधा थी. उस दौर में लोग डॉक्टर को डाकटर कहते थे और उनका सरनेम बर्मन था. इसलिए डाकटर बर्मन कहकर लोग उन्हें बुलाते थे. इन्हीं दो शब्दों के पहले दो अक्षर डाकटर के डा(DA) और बर्मन के बर(BUR) को जोड़कर नाम निकला 'डाबर'. ये नाम उन्हें पसंद आया इस तरह 1884 में डॉक्टर बर्मन ने अपनी आयुर्वेदिक दवाओं की कंपनी खोली तो उसका नाम रखा 'डाबर'. 

क्वालिटी बढ़ाने के लिए लगाई प्रयोगशालाएं

dabur products
Source: amazonaws

डाबर के उत्पादों की बढ़ती लोकप्रियता के साथ डॉ. बर्मन ने 1896 में इन्हें और बड़े पैमाने पर बनाने की ठानी. तब उन्होंने कोलकाता में ही एक बड़ी फ़ैक्टरी में इनका प्रोडक्शन शुरू कर दिया. उस दौर में डाबर ने उन बीमारियों की दवाइयां भी बनानी शुरू कर दीं जिनकी अंग्रेज़ी दवा मार्केट में उपलब्ध नहीं थी. इस तरह डाबर पर लोगों का भरोसा तेज़ी से बढ़ने लगा. 1920 के दशक में डाबर ने पारंपरिक आयुर्वेदिक दवाओं को वैज्ञानिक प्रक्रियाओं और गुणवत्ता जांच के हिसाब से बनाने के लिए ख़ुद की अनुसंधान प्रयोगशालाओं की भी स्थापना की. 

70 के दशक में कंपनी ने अपना बेस कोलकाता से दिल्ली शिफ़्ट कर दिया. इससे पूरे देश और विदेशो में उनके प्रोडक्ट्स की पहुंच संभव हो सकी. आज डाबर 120 से अधिक देशों में अपने प्रोडक्ट्स सेल करती है. इस पर लोगों का भरोसा वैसा ही जैसे वर्षों पहले था.