इस्तांबुल(Istanbul) आधुनिक तुर्की का वाणिज्यिक और वित्तीय केंद्र है. ये अभी भी तुर्क युग की व्यावसायिक संस्कृति को दर्शाता है. कुलियों का मेहनती जीवन इस शहर की व्यावसायिक गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

माल ढुलाई की परंपरा सदियों पुरानी है

borneobulletin

इस्तांबुल के ग्रैंड बाज़ार से कुछ ही दूरी पर एक अंधेरी गली में कुली बेराम यदल्डिज अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. वो अपने शरीर के वजन के लगभग दोगुने वज़न का एक बस्ता अपनी पीठ पर ढोकर ले जाएंगे. उनके साथ कुछ अन्य मजदूर भी हैं जो एक लॉरी से कपड़ों के बंडल उठा रहे हैं जिसे वे सूरज निकलने से पहले स्थानीय दुकानों तक पहुंचाएंगे. इस्तांबुल में इस तरह से माल ढुलाई की परंपरा सदियों पुरानी है. यदल्डिज कहते हैं, “मैं आधा हरक्यूलिस और आधा रैंबो हूं.” उनका दावा है कि वो अपनी पीठ पर 200 किलोग्राम तक का भार ढो सकते हैं.

ये भी पढ़ें: इन 15 दुर्लभ तस्वीरों में देखिए 1910-1929 का इंस्तांबुल, जानिए कितना बदल चुका है ये शहर 

इस्तांबुल की प्राचीन व्यापार संस्कृति

tmgrup

दो महाद्वीपों (एशिया और यूरोप) के बीच स्थित ये दुनिया का एकमात्र शहर है जहां सदियों से राजनीतिक, वाणिज्यिक और पर्यटक विशिष्टता और अद्वितीय आकर्षण है. आधुनिक तुर्की में सबसे विकसित शहरों में से एक होने के बावजूद, ये क्षेत्र और इसकी संस्कृति अभी भी तुर्क काल का प्रतिबिंब है. बेराम यदल्डिज उन सैकड़ों पुरुषों में से एक हैं जो तुर्की की वाणिज्यिक राजधानी इस्तांबुल के प्राचीन मध्य क्षेत्र में भोर से पहले इकट्ठा होना शुरू करते हैं. 

सबसे खराब काम

borneobulletin

अपनी पीठ पर कपड़ों के भारी बंडलों को ढोते और बोझिल कदमों पर चलते हुए अपने भाग्य के बारे में बड़बड़ाते और खु़द से बात करते हुए दिखाई देते हैं. यदल्डिज के सहयोगियों में से एक उस्मान ने कहा, “ये सबसे खराब काम है, लेकिन करने के लिए और कुछ नहीं है.” उस्मान पिछले 35 साल से मज़दूरी का काम कर रहे हैं.

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

ahvalnews

शहरी इतिहास के एक तुर्की इतिहासकार नजदत साकालू के मुताबिक इस्तांबुल में ये परंपरा वास्तव में 18वीं शताब्दी की है. उस समय सुल्तान महमूद द्वितीय इस क्षेत्र का शासक था और ये क्षेत्र आज भी कांस्टेंटिनोपल के नाम से जाना जाता है. तुर्की में कुली को हमाल कहा जाता है. उस समय अधिकांश कुली मूल अर्मेनियाई थे और शहर के जीवंत सांस्कृतिक इतिहास को दर्शाते थे.  

अधिकांश काम कुर्दों के पास है

malaymail

आज अधिकांश काम कुर्दों के पास है. वे दक्षिण-पूर्व में मालट्या और एडियमन के जातीय रूप से विविध प्रांतों से संबंधित हैं. इन क्षेत्रों के कई परिवारों ने पीढ़ियों से इस्तांबुल के व्यापारियों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए हैं. इतिहासकार नजदत कहते हैं, “मोबाइल फ़ोन के ज़माने से पहले, इन कुलियों में व्यापार मालिकों के साथ सीधे संबंध स्थापित करने और उनका विश्वास हासिल करने की क्षमता थी. इसकी संरचना, व्यापार और टाइपोग्राफ़ी के कारण शहर कुलियों के बिना काम नहीं कर सकता.”

एक दिन में 200 से 300 लीरा कमाते हैं  

oneindia

कुली आमतौर पर एक कप्तान के नेतृत्व में दस्ते के रूप में काम करते हैं जो व्यापारियों के साथ उनके काम का समन्वय करने और उनकी पाली के अंत में उन्हें मजदूरी का भुगतान करने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं. यदल्डिज का कहना है कि वो एक दिन में 200 से 300 लीरा (20 से 30 डॉलर) के बीच कमाते हैं. अगर एक दिन उनके लिए अच्छा साबित होता है तो वो और भी ज्यादा कमा लेते हैं. कुली के काम के लिए सख्त आचार संहिता की आवश्यकता होती है. उदाहरण के लिए प्रत्येक टुकड़ी एक विशिष्ट छोटे क्षेत्र को नियंत्रित करती है और दूसरे के क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकती है.

कमाई घट रही है  

dw

49 साल के मुहम्मद तुक्तस सड़क के उलटी दिशा की ओर इशारा करते हुए कहते हैं, “अगर मैं वहां जाने की कोशिश करता हूं, तो वे मुझे नहीं जाने देंगे. वो उनका क्षेत्र है.”लगभग 30 वर्षों से तुक्तस उसी सात मंजिला इमारत की सीढ़ियों से ऊपर-नीचे भार ढो रहे हैं. इस मेहनत ने उन्हें शारीरिक रूप से पहलवान जैसा बना दिया है. माल का वज़न तो बढ़ रहा है लेकिन कमाई घट रही है.

सात मंजिला इमारत में सौ से अधिक व्यापारी तुक्तस जैसे मज़दूरों पर निर्भर हैं, जो पेशा के अंतिम बचे लोगों में से एक हैं. इस क्षेत्र में पहिएदार ठेले बेकार हैं. ऐसे कुली संकीर्ण गलियारों में और बिना लिफ्ट वाली इमारतों में ज्यादा काम आते हैं. तुक्तस खु़द को इस मरते हुए प्राचीन पेशे के अंतिम जीवित निशानों में से एक के रूप में देखते हैं.