Jailer Deepak Sharma: दिल्ली की तिहाड़ जेल (Tihar Jail) भारत की सबसे मशहूर जेल है. ये भारत की ही नहीं, बल्कि साउथ एशिया की सबसे बड़ी जेल (जेल परिसर) है. ये हमेशा से ही चर्चा का विषय बनी रहती है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां हाई प्रोफ़ाइल क़ैदियों को रखा जाता है. इसलिए इसकी सुरक्षा में देश के क़ाबिल अफ़सरों को ही लगाया जाता है. आज हम एक ऐसे ही क़ाबिल ऑफ़िसर की बात करने जा रहे हैं, जो अपनी कई ख़ासियतों के लिए मशहूर हैं.

Jailer Deepak Sharma

दरअसल, तिहाड़ जेल इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि इन दिनों 'तिहाड़ जेल' का एक ऑफ़िसर सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हो रहा है. इनका नाम दीपक शर्मा (Deepak Sharma) है. तिहाड़ जेल के अंदर 9 अलग-अलग जेल हैं. इनमें से जेल नंबर 3 की कमान 'असिस्टेंट सुप्रिटेंडेंट ऑफ़ पुलिस' दीपक शर्मा के हाथ में है. दीपक इसलिए भी मशहूर हैं क्योंकि वो प्रोफ़ेशनल बॉडीबिल्डर हैं. वो काम के साथ-साथ अपनी फ़िटनेस का भी काफ़ी ख़याल रखते हैं.  

ये भी पढ़ें: ये हैं भारत के 7 बॉडीबिल्डर पुलिस वाले, जिनकी बॉडी देख मुज़रिम भी थर-थर कांपते हैं

Jailer Deepak Sharma

दीपक शर्मा ने अपने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि, साल 2009 में वो दिल्ली पुलिस में भर्ती हुये थे. इस दौरान जब उन्होंने सलमान ख़ान की फ़िल्म 'दबंग' देखी तो दीपक ने भी उनके जैसी पर्सनैलिटी पाने के लिए बॉडी बनने का फ़ैसला किया.  

साल 2014 में बने प्रोफ़ेशनल बॉडी बिल्डर

दीपक शर्मा (Deepak Sharma) ने प्रोफ़ेशनल बॉडी बिल्डर के तौर पर साल 2014 में पहला कॉम्पिटिशन लड़ा था. तब से लेकर अब तक वो कई कॉम्पिटिशन जीत चुके हैं. इनमें 'मिस्टर दिल्ली', 'मिस्टर यूपी', 'मिस्टर हरियाणा', 'आयरन मैन ऑफ़ दिल्ली (सिल्वर)', स्टील मैन ऑफ़ इंडिया (सिल्वर मेडल) जैसे टाइटल शामिल हैं.

दीपक की बॉडी देख ख़ौफ़ खाते हैं क़ैदी

दीपक शर्मा (Deepak Sharma) दिल्ली पुलिस महकमे के सबसे फ़िट पुलिस अधिकारियों में से एक हैं. बिज़ी शेड्यूल होने के बावजूद वो वर्कआउट करना कभी नहीं भूलते. दीपक की फ़िटनेस के आगे अच्छे-अच्छे बॉडी बिल्डर फेल हैं. वो जब भी जेल भ्रमण पर निकलते हैं, क़ैदियों के बीच खलबली मच जाती है. क़ैदी उनके 19 इंच के डोले (बाइसेप्स) और 48 इंच की छाती देख डर के मारे पसीना-पसीना हो जाते हैं.

ये भी पढ़ें: कभी देखा है बॉडीबिल्डर Monk? थाईलैंड का ये बौद्ध भिक्षु अपने डोलों-शोलों के चलते हो रहा है वायरल

निर्भया केस के दोषियों को दिला चुके हैं फांसी

दीपक शर्मा (Deepak Sharma) इससे पहले दिल्ली की 'मंडोली जेल' के 'डिप्टी जेल सुपरिटेंडेंट' थे. लेकिन 'निर्भया कांड' के दोषियों की फांसी के समय उनकी नियुक्ति 'तिहाड़ जेल' में कर दी गई थी. इस केस की प्रोसीडिंग के दौरान दीपक शर्मा ने दिन-रात एक कर दिया था. इस दौरान उन्होंने आरोपियों को फ़ांसी के फंदे तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी.

Jailer Deepak Sharma

Jailer Deepak Sharma

फ़िटनेस के शौक़ीन क़ैदी भी लेते हैं टिप्स 

दीपक शर्मा (Deepak Sharma) तिहाड़ जेल के कई फ़िटनेस के शौक़ीन क़ैदियों को फ़िटनेस टिप्स भी देते हैं. वो समय-समय पर जेल में कई फ़िटनेस और मेंटल एक्टिविटीज़ भी आयोजित करते रहते हैं. इनमें क़ैदी बढ़-चढ़कर पार्टिसिपेट भी करते हैं. इसके अलावा वो जेल के बाहर 'योग शिविरों' का आयोजन और कई NGO के साथ मिलकर सोशल वर्क भी करते हैं.

दीपक शर्मा अब तक कई 'बॉडी बिल्डिंग कॉम्पिटिशन' अपने नाम कर चुके हैं. प्रोफ़ेशनल बॉडी बिल्डर होने के नाते डिपार्टमेंट से भी उन्हें कुछ घंटे ड्यूटी में छूट मिलती है. वो 24 घंटे में कम से कम 3-4 घंटे वर्क-आउट करते हैं. तिहाड़ जेल में बार कुछ क़ैदी हुड़दंग करने की कोशिश भी करते हैं, लेकिन दीपक शर्मा की मौजूदगी में उनकी हेकड़ी निकल जाती है.