आज की इस दौड़ती भागती ज़िंदगी में हर कोई बीमारियों और मोटापे से परेशान है. इससे निजात पाने के लिए लोग जिम, एक्सरसाइज़ और योग का सहारा ले रहे हैं. पिछले कुछ सालों की बात करें तो भारत में युवाओं के बीच बॉडी बिल्डिंग (Body Building) एक नया शौक और प्रोफ़ेशन बनकर उभरा है. आज देश के युवा ही नहीं, बल्कि उम्रदराज लोगों के बीच भी बॉडी बिल्डिंग को लेकर ख़ासा क्रेज देखा जा रहा है. आज के दौर में तो 'पचपन की उम्र वाला भी कुछ को बचपन की उम्र वाला' समझने लगा है. भई समझे भी क्यों नहीं. आज भारत में ऐसे कई उम्रदराज लोग हैं जो अपने सिक्स पैक ऐप्स से युवाओं को कड़ी टक्कर दे रहे हैं. इन्हीं में से एक 60 साल के सुरेश कुमार (Suresh Kumar)भी हैं.  

ये भी पढ़ें- शरत सक्सेना: 71 साल की उम्र में भी अपनी दमदार फ़िटनेस से युवाओं को कर रहे हैं प्रेरित

Source: facebook

इस नाम से आप भले ही वाक़िफ़ न हों. लेकिन सोशल मीडिया पर आपने सुरेश कुमार की तस्वीरें ख़ूब देखी होंगी. सुरेश आज अपनी दमदार फ़िटनेस की वजह से युवाओं के रोल मॉडल बन चुके हैं. वो ख़ासकर उन युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं जो अपने आलस की वजह से 30 की उम्र में 40 के नज़र आते हैं. इसके अलावा वो युवा जो कम उम्र में बिमारियों से घिर चुके हैं उन्हें सुरेश से सीख लेनी चाहिए कि 60 वर्ष की उम्र में भी फ़िट कैसे रहा जाता है. 

Source: mensxp

कौन हैं भारत के 'आर्नोल्ड' सुरेश कुमार 

60 वर्षीय सुरेश कुमार (Suresh Kumar) एक प्रोफ़ेशनल बॉडी बिल्डर हैं. केरल के कोल्लम निवासी सुरेश साल 2021-22 में 𝐌𝐫. 𝐈𝐍𝐃𝐈𝐀 (Masters) रह चुके हैं. वो अब तक कई नेशनल और इंटरनेशनल बिल्डिंग कॉम्पिटिशन में भाग ले चुके हैं और विनर भी रहे चुके हैं. सुरेश न केवल बॉडी बिल्डिंग का शौक रखते हैं, बल्कि वो एक ट्रेनर और कोच भी हैं. वो अब तक कई युवाओं को बॉडी बिल्डिंग और फ़िटनेस की ट्रेनिंग दे चुके हैं. वर्तमान में वो कोल्लम के Alien Gym में ट्रेनिंग देते हैं. इसके अलावा सुरेश कुमार Mr INDIA SURESH KUMAR नाम से एक YouTube चैनल भी चला रहे हैं, जिसके ज़रिए वो युवाओं की फ़िटनेस की बारीकियां समझाते हैं.

Source: facebook

सुरेश कुमार (Suresh Kumar) ने सन 1985 में जिम की ट्रेनिंग शुरू की और 2 साल बाद 1987 में उन्हें 'केरल रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन' में कंडक्टर की नौकरी मिल गई. चूंकि उनकी डबल ड्यूटी थी, इसलिए उन्हें सप्ताह में केवल 3 दिन ही काम करना पड़ता था. ऐसे में उन्हें वर्कआउट और बॉडी बिल्डिंग के लिए पर्याप्त समय मिल जाता था. अपने इंटेंस वर्कआउट और ट्रेनिंग के दम पर सुरेश ने साल 1987 में 'मिस्टर कोल्लम' का ख़िताब अपने नाम किया. इसके बाद अगले डेढ़ दशक तक इस ख़िताब को अपने पास कायम रखा. वो 5 बार 'मिस्टर केरल' रह चुके हैं. 40 साल की उम्र पार करने के बाद प्रतियोगियों को मास्टर्स वर्ग में प्रतिस्पर्धा करनी होती है. साल 2008 में कोलकाता में आयोजित इस प्रतियोगिता में 40 से 50 एज ग्रुप के लिए उन्होंने मास्टर्स वर्ग में भाग लिया, लेकिन वो तीसरा स्थान हासिल कर सके.

सुरेश कुमार 20 साल की उम्र से ही बॉडी बिल्डिंग करते आ रहे हैं. सुरेश ने शुरुआती दौर में GYM अपने शौक के लिए जाना शुरू किया था, लेकिन धीरे धीरे उन्हें बॉडी बिल्डिंग इतनी पसंद आई कि सुरेश ने बॉडी बिल्डिंग को ही अपनी ज़िंदगी बना ली. वो अपनी फ़िटनेस को लेकर बेहद सजग रहते हैं. सुरेश हर रोज़ जिम में घंटों पसीना बहाते हैं. आज वो अपनी मस्क्युलर फिज़ीक से बॉलीवुड स्टार्स से लेकर देश के युवाओं तक को कड़ी टक्कर दे रहे हैं. अपनी दमदार फ़िटनेस की वजह से सुरेश कुमार को भारत का 'आर्नोल्ड' भी कहा जाता है.

Source: facebook

सुरेश कुमार आज सोशल मीडिया की दुनिया के स्टार बन चुके हैं. दरअसल, पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर वायरल सुरेश कुमार की तस्वीरों और वीडियोज़ को देख हर कोई हैरान है. इन वीडियोज़ और फ़ोटोज़ में देख सकते हैं कि कैसे सुरेश एक्सरसाइज़ कर रहे हैं.  

आज के दौर में जहां 40 की उम्र के बाद लोग GYM करना तो दूर मेहनत करना ही छोड़ देते हैं. वहीं 60 की उम्र में भी सुरेश कुमार सबके लिए प्रेरणा बने हुए हैं.