Why Mall Toilets Are Short: हम रोज़ाना कई चीज़ें देखते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही चीज़ें हैं, जिन पर हम अटेंशन देते हैं. ऐसी कई चीजें होती हैं, जिनमें बने फ़ीचर्स का कोई ना कोई मकसद ज़रूर होता है. लेकिन हम अक्सर उन फ़ीचर्स को नज़रअंदाज़ कर देते हैं. उदाहरण के तौर पर आपने मॉल के बाथरूम (Bathroom) में अक्सर देखा होगा कि उसमें बगल वाले बाथरूम से सटी दीवार नीचे से थोड़ी उठी होती है. क्या आपने कभी इसके पीछे की वजह जानने की कोशिश की है?

आइए आज हम आपको बताते हैं कि मॉल में Toilets के दरवाज़े नीचे से उठे क्यों होते हैं?

क्लीनिंग को बनाता है आसान

टॉयलेट (Toilets) के दरवाज़े अगर ऊपर की ओर होते हैं, तो सफ़ाई करते समय बिना गेट खोले पोंछा लगाना आसान हो जाता है और साथ ही गेट क्लीनिंग के टाइम पर बाधा भी नहीं डालते हैं. साथ ही ये लोगों को ऐसी चीज़ें करने से रोकता है, जो सार्वजनिक रूप से नहीं की जानी चाहिए. उदाहरण के तौर पर कपल का इंटीमेट होना, बर्बरता, नशीली दवाओं का उपयोग आदि.

scrantonproducts

ये भी पढ़ें: दवा के पर्चे पर Rx लिखा तो देखा होगा, इसका क्या मतलब होता है जानते हैं आप?

मेडिकल इमरजेंसी के केस में लग जाता है पता

अगर टॉयलेट में जाने के दौरान कोई मेडिकल इमरजेंसी आ गई, तो किसी का ध्यान ज़रूर जाएगा. चूंकि दरवाज़ा पूरा नीचे नहीं होता है, तो इसलिए किसी भी व्यक्ति को वहां से दूसरी तरफ़ निकाला भी जा सकता है. 

restroomstallsandall

ये भी पढ़ें: Indian Currency: जानिये 1 रुपये से लेकर 2000 रुपये के नोट पर किसकी व कहां की तस्वीर छपी होती है 

नॉर्मल दरवाज़ों से कम आती है इसकी लागत

इनकी लागत नॉर्मल दरवाज़ों से कम आती है. उनको इतनी मेंटेनेंस की ज़रूरत नहीं पड़ती है. इसके अलावा काफ़ी लोग बाहर से दरवाज़ा खटखटाने लगते हैं, क्योंकि उन्हें पता नहीं होता कि अंदर कोई है. दरवाज़े ऊपर होने से ये दिक्कत भी नहीं होती. साथ ही अगर ग़लती से आपने दरवाज़ा लॉक कर दिया है, तो आप साइड वाले दरवाज़े से बाहर भी निकल सकते हैं. 

हर चीज़ के पीछे का एक लॉजिक होता है गुरु.