बाएं हाथ से खाने या लिखने वालों से हर कोई ये ज़रूर पूछता है अरे तुम बाएं हाथ से काम करते हो? ये सवाल न चाहते हुए भी मुंह से निकल ही जाता है क्योंकि बायें हाथ से काम करने वाले कम ही मिलते हैं. मगर जो बाएं हाथ से लिखते हैं वो बहुत ही बुद्धिमान, ऊंची सोच वाले और उनकी याद्दाश्त बाकी लोगों से बहुत अच्छी होती है. हमारे सामने मिसाल के तौर पर सदी के महानायक अमिताभ बच्चन, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, मार्क ज़ुकरबर्ग, मदर टेरेसा, रतन टाटा और बिल गेट्स जैसे लोग हैं, जो आज ज़िंदगी के बहुत ही ऊंचे मक़ाम पर बैठे हैं.

left handed
Source: bbc

मगर सोचने वाली बात ये है कि लेफ़्ट हैंडड इतने कम क्यों होते हैं? तो उसका जवाब ये रहा:

1. अल्ट्रासाउंड

ultrasound
Source: independent

एक रिपोर्ट की मानें, तो अल्ट्रासाउंड के दौरान अजन्मे बच्चों के दिमाग़ पर गहरा असर पड़ता है, जिसके चलते बच्चे जन्म के समय नहीं मगर उसके प्रभाव से बाद में लेफ़्ट हैंडेड हो सकते हैं. मगर ऐसा बहुत कम ही होता है.

2. बच्चे के जन्म की पोजीशन पर निर्भर करता है वो लेफ़्ट हैंडेड होगा या नहीं

baby in womb
Source: businessinsider

एक स्टडी के अनुसार, बच्चे का लेफ़्ट हैंडेड होना आख़िर के तीन महीनों में गर्भ में बच्चे की स्थिति और उसके जन्म की स्थिति पर निर्भर करता है. दरअसल, Asymmetric Placing, जब सिर ज़्यादा समय एक तरफ़ मुड़ा रहता है, तो इससे वेस्टिबुलर प्रणाली में Asymmetric उत्तेजना होती है, जिसके चलते बच्चा दाहिने हाथ का ज़्यादा इस्तेमाल करता है.

3. मानव विकास

Source: scientificamerican

बाएं हाथ के मुकाबले दाहिने हाथ का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या बहुत होती है. हालांकि, लेफ़्ट हैंडेड या राइट हैंडेड होना जेनेटिक होता है. जुड़वा बच्चे जो एक साथ पैदा होते हैं, उनके हाथों के इस्तेमाल में भी अंतर होता है.

4. हार्मोन में परिवर्तन के चलते

Hormone exposure
Source: rutgers

चार स्टडीज़ से पता चला है कि जिन मांओं ने सिंथेटिक एस्ट्रोजन वाली दवा ली, उनके बच्चों में दूसरों के बच्चे की तुलना में लेफ़्ट हैंडेड होने की संभावना ज़्यादा थी. इस दवा का उपयोग 1940 और 1971 के बीच किया गया था. शोधकर्ताओं ने बताया कि इस दवाई की वजह से भी लेफ़्ट हैंडेड बच्चे ज़्यादा होते थे. ऐसा शायद इसलिए भी अब कम हो गया है.

Lifestyle से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.