मुंबई के नायर अस्पताल की 26 वर्षीय डॉक्टर पायल तड़वी ने जातिगत तानों से तंग आकर आत्महत्या कर ली थी.


The Wire के मुताबिक, उसका मज़ाक बनाने वाली तीनों सीनियर्स में से एक को मंगलवार रात पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया. अग्रीपड़ा पुलिस ने भक्ति मेहरे को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है.

Source: India Today

दो अन्य आरोपी, अंकिता खंडेलवाल और हेमा अहूजा ने सेशन कोर्ट में बेल के लिए अपील कर दी है.


TOI के मुताबिक, तीनों आरोपी डॉक्टरों को पुलिस ने 31 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है.

पायल के घरवालों ने नायर अस्पताल में विरोध प्रदर्शन किया. पायल की मृत्यु के दोषियों को सख़्त से सख़्त सज़ा दिलवाने के लिए कई आम लोगों ने भी विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया.

पायल की मां अबेदा तड़वी ने कहा कि वो सरकार से छात्रों की सुरक्षा के लिए अपील करेंगी. उनका कहना है कि पायल भील आदिवासी समुदाय से पहली MD डॉक्टर बनती.

पायल उसके साथ छोटी-छोटी बातों पर हो रहे टॉर्चर के बारे में बताती. वो मरीज़ों के सामने उसके मुंह पर फ़ाइलें मारते. सीनियर्स को लिखित शिकायत देने के बाद भी कुछ नहीं हुआ.

- अबेदा तड़वी

Source: India Today

महाराष्ट्र स्टेट कमीशन फ़ॉर वीमेन ने मामले पर संज्ञान लेते हुए अस्पताल से 8 दिनों में जवाब मांगा है.


पायल की मृत्यु की आरोपी तीनों डॉक्टरों ने महाराष्ट्र एसोशियेशन ऑफ़ रेसिडेंट डॉक्टर्स को पत्र लिखकर पूरे मामले की 'सही जांच' करने और उन्हें न्याय देने का आग्रह किया.