अमेरिका के एक 17 वर्षीय छात्र ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक ऐसी उपलब्धि हासिल की है, जिसे हासिल करने में बड़े-बड़े वैज्ञानिक अपनी पूरी ज़िंदगी लगा देते हैं.

Source: thetimes

दरअसल, नासा के मैरीलैंड स्थित 'गोडार्ड स्पेस फ़्लाइट सेंटर' में इंटर्नशिप कर रहे 10वीं के छात्र Wolf Cukier ने अपनी इंटर्नशिप के तीसरे दिन ही पृथ्वी के आकार से लगभग 7 गुना बड़े ग्रह को खोज निकाला है. इस ग्रह का नाम 'TOI 1388B' रखा गया है.

नासा ने ख़ुद ट्वीट कर इस ख़बर की जानकारी दी है.

Wolf ने इस ग्रह की खोज ट्रांज़िटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (टेसा) के ज़रिये की है. ये ग्रह पृथ्वी से 1300 प्रकाश वर्ष दूर स्थित एक तारामंडल में मौजूद है. 'TOI 1388B' आकार में पृथ्वी से 6.9 गुना बड़ा है.

Source: amarujala

CNN से बातचीत में Wolf Cukier ने बताया कि, जब मैं खोज कर रहा था तो मुझे अंतरिक्ष में तारों का एक गुच्छा दिखाई दिखा, जहां ग्रह होने के संकेत थे. इस दौरान मुझे इस आईडेंटिफ़ाई करने के लिए कुछ घंटे लगे कि ये बोनाफ़ाइड ग्रह है.

Source: patrika
इस दौरान अंतरिक्ष के उस हिस्से में मुझे 100 चमकीली चीजें दिखीं. फिर मैंने प्रत्येक पर काम किया और पाया कि यहां एक ग्रह मौजूद है. इन 100 में से एक ग्रह की चमक बिल्कुल अलग थी और मैं समझ गया कि ये कोई ग्रह हो सकता है. इसके बाद मैंने सिर्फ़ उसी पर कई घंटों तक काम किया और निष्कर्ष निकाला कि वो वास्तव में एक ग्रह ही है. फिर मेरे सीनियर्स ने भी मेरी खोज पर मुहर लगा दी.

नासा के ट्रांसिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS) मिशन को ग्रहों की खोज के लिए जाना जाता है.