Citizenship Amendment Act (CAA) के ख़िलाफ हुए विरोध प्रदर्शनों ने ये सवाल उठाने शुरू कर दिए थे कि आख़िर देश के नागरिकता को कैसे परिभाषित किया जाएगा. साथ ही इन विरोध प्रदर्शनों ने भारतीय पुलिस किस तरह काम करती है इस पर भी सवाल उठने लगे थे. प्रदर्शनकारियों पर जिस तरह से पुलिस ने कार्रवाई की थी उसकी कई राजनीतिक पार्टियों ने आलोचना की थी.

साल 2019 में Common Cause और Centre For The Study Of Developing Societies (CSDS) ने मिलकर भारतीय पुलिस पर एक सर्वे किया था. इसमें उनके विचारों और प्रोफ़ेशनल ट्रेनिंग को लेकर कई चौंकाने वाले निष्कर्ष सामने आए हैं.

police
Source: indiaspend

इस सर्वे में देश के 21 राज्यों के 11,834 पुलिस वाले शामिल हुए थे. इस रिसर्च में पुलिस वालों के कई पुर्वाग्रहों और एक ख़ास समुदाय के प्रति उनके रवैये को लेकर कई हैरान करने वाले खुलासे हुए हैं. चलिए एक नज़र भारतीय पुलिस अपने नागरिकों के बारे में क्या सोचती है उस पर भी डाल लेते हैं…

1.

Hard-Hitting Stats about indian police

2.

Hard-Hitting Stats about indian police

3.

Hard-Hitting Stats about indian police

4.

Hard-Hitting Stats about indian police

5.

Hard-Hitting Stats about indian police

6.

Hard-Hitting Stats about indian police

7.

Hard-Hitting Stats about indian police

8.

Hard-Hitting Stats about indian police

9.

Hard-Hitting Stats about indian police

10.

Hard-Hitting Stats about indian police

इस तरह की सोच रखने वाली पुलिस क्या नागरिकों के भले के लिए स्वतंत्र रूप से काम कर पाएगी?


Lifeके और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.