पूरे देश में अब तक 54 लाख से ज़्यादा लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं. सबसे ज़्यादा 12 लाख केस अकेले महाराष्ट्र में हैं. इस मुश्किल दौर में भी एक प्यारा सा मुस्कुराता हुआ चेहरा है, जो उम्मीद जगाता है कि हम आज नहीं तो कल इस ख़तरनाक वायरस को मात दे देंगे. ये चेहरा 106 साल की एक बुज़ुर्ग महिला का है, जिन्होंने कोरोना को हरा दिया है.

दरअसल, महाराष्ट्र के डोम्बिवली शहर में एक 106 वर्षीय बुज़ुर्ग हिला आनंदीबाई पाटिल कोरोना संक्रमित थीं. 10 दिन तक चले उनके इलाज के बाद अब वो पूरी तरह ठीक हो चुकी हैं और रविवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी भी मिल गई. हॉस्पिटल से निकलने से पहले उन्होंने बेहद गर्व के साथ अपना डिस्चार्ज सर्टिफ़िकेट मीडिया को दिखाया और इस दौरान जो ख़ुशी उनके चेहरे पर थी, उसने हर किसी का दिल जीत लिया.

बुज़ुर्ग महिला की बहू ने बताया कि जब उनकी सांस कोरोना संक्रमित हुईं तो कोई भी अस्पताल उनकी उम्र के कारण उन्हें एडमिट नहीं करना चाहता था. हालांकि, कल्याण-डोम्बिवली नगर निगम (केडीएमसी) के कोविड-19 अस्पताल ने उन्हें 10 दिन पहले एडमिट किया और डॉक्टरों की टीम ने उनका अच्छे से ट्रीटमेंट किया. अब वो पूरी तरह से ठीक होकर डिस्चार्ज हो गईं, जिसके चलते पूरा परिवार काफ़ी ख़ुश है.

उन्होंने कहा, ‘हम वास्तव में अस्पताल की चिकित्सा टीम के शुक्रगुज़ार हैं, जिन्होंने उनकी उचित देखभाल की और कोरोनो वायरस को हराने में उनकी मदद की.’

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी ट्वीट कर बुज़ुर्ग़ महिला को उचित इलाज देने के लिए केडीएमसी कर्मचारियों और शिवसेना सांसद श्रीकांत शिंदे की प्रशंसा की और कहा कि महिला और उनके जैसे लोगों के आशीर्वाद हम सभी को मज़बूत बनाए रखेगा.