कर्नाटक के रायचुर ज़िले में पिछले साल भयंकर बाढ़ आई थी. इस बाढ़ में फंसी एक एंबुलेंस को रास्ता दिखा कर उसे पुल पार करवाया था एक 12 साल के बच्चे वेंकटेश ने. तब उनके साहस की चर्चा चारों तरफ हुई थी और अब आने वाली 26 जनवरी को उन्हें राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा.

भारतीय बाल कल्याण परिषद ने बीते मंगलवार को देश के अलग-अलग हिस्सों से 22 बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार देने की घोषणा की है. इसमें कर्नाटक के इस साहसी बालक वेंकटेश का नाम भी शामिल है. कर्नाटक के श्रम विभाग के आईएएस सचिव पी. मणिवन्न ने इस पुरस्कार के लिए उनका नाम परिषद को भेजा था.

Source: younews

वेंकटेश छठी कक्षा के छात्र हैं, जो हिरेरायानकुंपी गांव के रहने वाले हैं. पिछले साल अगस्त में जब कृष्णा नदी में बाढ़ आई थी, तब इस नदी पर बना पुल पूरी तरह जलमग्न हो गया था. उस समय पानी के कारण एक एंबुलेंस जिसमें एक शव और चार बच्चे मौजूद थे, के ड्राइवर को रास्ता नहीं दिखाई दे रहा था.

Source: thehindu

ड्राइवर को बाढ़ के पानी में रुका देख वेंकटेश ने सारा माज़रा समझ लिया और चल पड़ा एंबुलेंस को रास्ता दिखाने. चूंकि वेंकटेश वहीं रहते थे इसलिए उन्हें पता था कि सड़क का रास्ता किधर है. वो ड्राइवर को इशारा करता रहा और एंबुलेंस को बाहर निकालवाने में मदद की.

Source: ANI

उनके इस साहसिक कार्य के लिए स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ज़िले के डिप्टी कमिश्नर ने उन्हें सम्मानित भी किया था. उनके इस साहसिक कार्य का वीडियो वायरल होने के बाद उनके घर वालों को इस बारे में पता चला था. उनके भाई भीमराया के अनुसार, जब उनका ये वीडियो इंटरनेट पर वायरल हुआ था, तब वेंकटेश की मां ने उन्हें ख़ूब डांट लगाई थी. लेकिन बाद में मीडिया में जब उसकी तारीफ़ सुनी तो उसकी बहुत ही सराहना की थी.

Source: thehindu

वेंकटेश के अलावा कर्नाटक की 9 साल की आरती को भी वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. उन्होंने मैदान में खेल रहे अपने भाई को साहस पूर्वक एक गाय से बचाया था, जो उसे मारने के लिए बढ़ रही थी.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.