केरल के कोझिकोड में हुए विमान हादसे में अब तक पायलट और को-पायलट समेत कुल 18 लोगों की मौत हो गई है. बीती रात दुबई से 184 यात्रियों को लेकर भारत आ रहा 'एयर इंडिया' का विमान केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पर लैंडिंग के वक्त फ़िसलकर 35 फ़ीट गहरी खाई में जा गिरा था.

Source: malayalam

बताया जा रहा है कि 'वंदे भारत मिशन' के तहत एयर इंडिया एक्सप्रेस AXB1344 'बोइंग 737' दुबई से कोझीकोड आ रहा था. दुबई से 184 यात्रियों और 2 पायलट समेत क्रू के 6 सदस्यों को लेकर कोझिकोड पहुंचा एयर इंडिया का विमान रनवे को पार करता हुआ दीवार से टकराया और दो टुकड़ों में बंट गया.

Source: ndtv

न्यूज़ एजेंसी ANI से बातचीत में 'नागरिक उड्डयन मंत्री', हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि, एयर इंडिया का ये विमान शुक्रवार शाम 'कोझिकोड इंटरनेशनल एयरपोर्ट' पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. इस हादसे में दो पायलटों समेत 18 लोगों की मौत हुई है. अब भी 127 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं. अगर विमान में आग लग गई होती तो हमारा काम और भी मुश्किल हो जाता. मैं हवाई अड्डे (करीपुर में कोझिकोड इंटरनेशनल एयरपोर्ट) जा रहा हूं.

Source: liveupdates

डीजीसीए के मुताबिक़, इस हादसे में कम से कम 170 लोग सुरक्षित हैं. लेकिन विमान के पायलट और को-पायलट की इस हादसे में मौत हो गई. वहीं केबिन क्रू के 4 सदस्य सुरक्षित बचा लिए गए हैं. केरल के डीजीपी ने बताया कि 18 लोगों की मौत हुई है. कुछ लोग मलबे में भी फंस गए थे. हादसे की पुख्ता वजह जांच के बाद सामने आएगी लेकिन शुरुआती जानकारी के मुताबिक विमान रनवे को पार कर गया. विमान में 10 नवजात बच्चे भी सवार थे.

Source: hindustantimes

इस वजह से हुआ था हादसा

इस वजह से हुआ था हादसा बताया जा रहा है कि जिस वक़्त विमान लैंडिंग कर रहा था उस वक़्त बारिश के कारण विजिबिलिटी बेहद कम थी. कोझिकोड का रनवे ज्यादा लंबा नहीं है. इसलिए रनवे पर भी पानी भरा था. ऐसे में विमान के पायलट कैप्टन वसंत साठे एयरपोर्ट के दो चक्कर काटने के बाद विमान को रनवे पर उतारने की कोशिश की. पहली कोशिश में विमान को लैंड कराने में मुश्किल हुई तो पायलट साठे विमान को दोबारा आसमान में ले गए. इसके थोड़ी देर में उन्होंने दोबोरा कोशिश कर विमान को रनवे पर उतार दिया, लेकिन वहां पानी जमा होने के कारण विमान रनवे से आगे निकलकर आगे खाई में जा गिरा और उसके दो टुकड़े हो गए.

Source: jagran

आमतौर पर इस तरह के बड़े विमान हादसों में किसी की भी बचने की उम्मीद बेहद कम होती है. इस दौरान ख़ुशकिस्मती ये रही कि ज़मीन से टकराने के बावजूद विमान में आग नहीं लगी. इस तरह से 184 यात्रियों से केवल 18 लोगों की ही मौत हुई, जबकि 150 से ज्यादा लोग अस्पताल में भर्ती है.

बताया जा रहा है कि इस विमान के पायलट कैप्टन वसंत साठे 'भारतीय वायुसेना' के अनुभवी पायलट रह चुके हैं और उन्हें वहां 'सोर्ड ऑफ़ ऑनर' से नवाजा जा चुका है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हालात की जानकारी के लिए केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से बात कर हर संभव मदद की बात कही. पीएम मोदी ने बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताई.

Source: intoday

हादसे के बाद स्थिति का जायजा लेने के लिए विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन कालीकट पहुंच चुके हैं. वो पीड़ित परिवारों से भी मुलाकात भी करेंगे. वहीं केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन भी कालीकट जाएंगे.