बड़े शर्म की बात है कि जब इस मुश्किल दौर में डॉक्टर अपनी जान जोख़िम में डालकर कोरोना वायरस से लोगों की जान बचाने में लगे हुए हैं. तो वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो उन्हीं डॉक्टर्स के साथ बदसलूकी कर रहे हैं.

Source: ndtv

देशभर से डॉक्टरों के साथ बदसलूकी के कई मामले सामने आ रहे हैं. कहीं डॉक्टरों और नर्सों पर थूक दिया जाता है, तो कहीं डॉक्टरों को किराए के घर से निकाल दिया जा रहा है. कुछ लोग स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम पर पत्थर बरसा रहे हैं तो कुछ डॉक्टरों को गालियां दे रहे हैं.

Source: thehindubusinessline

डॉक्टरों के साथ बदसलूकी का एक नया मामला दिल्ली के गौतम नगर से भी सामने आया है. बुधवार शाम ज़रूरी सामान ख़रीदने घर से निकली सफ़दरजंग हॉस्पिटल की 2 महिला डॉक्टरों के साथ एक शख़्स ने बदसलूकी की. इस दौरान ये शख़्स दोनों डॉक्टरों के घर से बाहर निकलने पर उन्हें गालियां देने लगा.

इस दौरान डॉक्टरों ने उसे समझने की कोशिश करने लगे तो उसने आस पास के लोगों को भी एकत्र कर लिया. इसके बाद इन सभी लोग एक साथ पर महिला डॉक्टरों पर अटैक कर दिया. इसके बाद दोनों डॉक्टरों ने पुलिस को कॉल कर इसकी शिकायत की. जब तक पुलिस वहां पहुंचती तब तक ये फ़रार हो चुका था. लेकिन देर रात पुलिस ने आरोपी 43 वर्षीय इंटीरियर डिज़ायनर को गिरफ़्तार कर लिया.

इस हमले में दोनों महिला डॉक्टरों को चोटें भी आयी थीं. इसके बाद उन्होंने सफ़दरजंग हॉस्पिटल में इलाज़ कराया.

इससे पहले भी देशभर से कई घटनाएं आ चुकी हैं सामने

हाल ही में इंदौर में कोरोना संक्रमितों की जांच करने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर लोगों ने पथराव कर दिया. स्वास्थ्यकर्मी किसी तरह वहां से अपनी जान बचाकर भागे.

पिछले हफ़्ते ही डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार की एक घटना हैदराबाद से भी सामने आई थी. जहां कोरोना मरीज़ की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टर की पिटाई कर दी. ये डॉक्टर इस परिवार के 3 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ों का इलाज कर रहा था.

Source: bhaskar

इसी तरह की एक घटना गुजरात के सूरत से भी सामने आई थी. जहां कोरोना मरीज़ों का इलाज करके एक हफ़्ते बाद घर लौटी महिला डॉक्टर के साथ उन्हीं की सोसाइटी के लोगों ने बदसलूकी की. इस दौरान एक शख़्स डॉक्टर को पीटने उसके घर तक पहुंच गया था.

दिल्ली में कोरोना मरीज़ों के इलाज में लगे डॉक्टरों, नर्सों और स्वास्थ्य कर्मियों को लोगों ने किराए का घर खाली करने के आदेश दिए. इस दौरान कई लोगों ने डॉक्टरों को अपने घरों में घुसने से मना कर दिया था.