राजस्थान पुलिस ने गाय की तस्करी के जुर्म में पहलू ख़ान पर चार्जशीट फ़ाइल की है. लेकिन चार्जशीट फ़ाइल करने का फ़ायदा तब होगा, जब वो इंसान ज़िन्दा हो. जिस पहलू ख़ान के ख़िलाफ़ पुलिस ने चार्जशीट फ़ाइल की है, उसे 2 साल पहले अलवर में 'गौ रक्षकों' ने पीट-पीटकर मार डाला था. वो अपने दो बेटों के साथ गाय को ट्रांसपोर्ट कर रहा था. दो साल पुराने इस केस में इंसाफ़ तो नहीं मिला, चार्जशीट ज़रूर मिल गयी है.

चार्जशीट में उस गाड़ी के मालिक, जगदीश प्रसाद का भी नाम है, जिसमें पहलू ख़ान गाय लेकर जा रहा था. पहलू ख़ान के अलावा उसके दोनों बेटे (इरशाद और आरिफ़) का भी नाम चार्जशीट में दिया गया है.


ये चार्जशीट पिछले साल 30 दिसंबर को बनाई गई थी और इसे इस साल 29 मई को बहरोड़ के Additional Chief Judicial Magistrate के सामने पेश किया गया.

Indian Express से बात करते हुए पहलू ख़ान के बड़े बेटे ने कहा,

हमने अपने पिता को 'गौ रक्षकों' की वजह से खो दिया और अब हम पर गाय तस्करी का इल्ज़ाम लगाया गया है. हमें लगा था कि राजस्थान में आई नई कांग्रेस सरकार जांच कर ये केस वापस लेगी पर अब हम पर ही चार्जशीट फ़ाइल कर दी गई है. हम सरकार बदलने पर न्याय की उम्मीद कर रहे थे पर वैसा हुआ नहीं.

- इरशाद

पिछले साल बीजेपी सरकार ने अज़मत और रफ़ीक़ (पहलू ख़ान के साथी) के खिलाफ़ भी चार्जशीट दायर की थी.


2017 में पुलिस ने दो RBA Act ( Rajasthan Bovine Animal, Prohibition of Slaughter and Regulation of Temporary Migration or Export Act) के तहत दो अलग FIR दायर की थी क्योंकि पूरी घटना में दो पिक-अप ट्रक थे. एक ट्रक का मालिक जगदीश था और उसे अर्जुन चला रहा था. दूसरा ट्रक ख़ान मोहम्मद का था, जिसमें पहलू खान और उसके दो बेटे थे.

इस पूरी घटना पर ट्विटर की प्रतिक्रिया-