‘तिनका-तिनका बिखर रहा हूं, जो पूरा हो जाऊं

तुम साथ मिलाकर जला लेना, शायद रौशन हो जाऊं

लॉकडाउन के चलते इस वक़्त देश में प्रवासी मज़दूर अपने घरों को लौट रहे हैं. लेकिन घर पहुंचने का सफ़र इनकी आखिरी मंज़िल साबित हो रहा है. हर रोज़ सड़क हादसों में ये बेसहारा अपनी जान गंवाने को मजबूर हैं. मंगलवार को भी देश के अलग-अलग राज्यों में कई मज़दूर सड़क दुर्घटना का शिकार हुए हैं. 

Source: indianexpress

एक रिपोर्ट के मुताबिक़, देश के पांच राज्यों में हुए सड़क हादसों में 22 मज़दूरों की मौत हुई है. इनमें बिहार में 9, महाराष्ट्र में 4, यूपी में 6, ओडिशा में 2 और झारखंड में 1 मज़ूदर की मौत हुई है. 

बिहार में 9 मज़दूरों की मौत 

बिहार भागलपुर जिले के नवगछिया में मंगलवार सुबह ट्रक और बस की आमने सामने हुई टक्कर में 9 प्रवासी मज़दूरों की मौत हो गई. ये सभी पश्चिम बंगाल से वापस लौटकर बिहार के पूर्वी और पश्चिमी चंपारन आ रहे थे. 

Source: newindianexpress

बतौर पुलिस, प्रवासी श्रमिक साइकिल पर अपने घरों के लिए निकले थे, लेकिन रास्ते में वो एक लोहे के खंभों से भरे ट्रक पर सवार हो गए. जब ट्रक और बस में टक्कर हुई तो ये मज़दूर पोल के नीचे ही दब गए. वहीं, बस भी प्रवासी मज़दूरों को लेकर दरभंगा से बांका जा रही थी. 

महाराष्ट्र में 4 लोगों की सड़क हादसे में मौत 

महाराष्ट्र में हुई बस दुर्घटना में चालक समेत 4 प्रवासी मज़दूरों की मौत हो गई. वहीं, 22 मज़दूर घायल हो गए. ये बस महाराष्ट्र के सोलापुर से प्रवासी मजदूरों को झारखंड लेकर जा रही थी. बताया जा रहा है कि ये हादसा बस चालक के वाहन पर से संतुलन खोने के कारण हुआ. पुलिस के मुताबिक़, घटना कोलवन गांव में सुबह साढ़े तीन बजे हुई, जब बस सोलापुर से नागुपर रेलवे स्टेशन जा रही थी. प्रवासी मजदूरों को स्टेशन से झारखंड जाने वाली श्रमिक विशेष ट्रेन पकड़नी थी. बता दें, घायल मज़दूरों में 17 की हालत गंभीर बनी हुई है. 

यूपी में दो अलग-अलग हादसों में 6 मज़दूरों की मौत 

यूपी में पहली घटना झांसी-मिर्ज़ापुर राजमार्ग पर हुई. यहां मज़दूरों को ले जा रहा एक ट्रक पलट गया, जिसमें तीन महिलाओं की मौत हो गई. ये मज़दूर दिल्ली से लौटते वक़्त मध्य प्रदेश सीमा के साथ हरपालपुर के पास एक ट्रक पर सवार हुए थे, तब ही महोबा जिले के महुवा चौराहे पर टायर फटने ट्रक सड़क किनारे खाई में गिर गया. इस हादसे में 12 मज़दूर घायल भी हुए हैं. 

Source: indiatvnews

वहीं, दूसरी घटना आज़मगढ़ में हुई, यहां एक कार को मिनी ट्रक ने टक्कर मार दी. कार में सवार तीन श्रमिकों की मौत हो गई. 

ओडिशा में दो मज़दूरों की मौत 

ओडिशा के अंगुल जिले में 26 प्रवासियों को लेकर जा रही एक बस एलपीजी टैंकर से भीड़ गई. इसमें टैंकर के ड्राइवर की मौत हो गई और कम से कम 12 प्रवासियों को चोटें आईं. वहीं, ओडिशा के बालासोर में दो ट्रकों की टक्कर में एक मज़दूर की मौत हो गई. ये मज़दूर ट्रक की छत्त पर बैठकर यात्रा कर रहा था. 

बता दें, 25 मार्च को लॉकडाउन लागू होने के बाद से हुए हादसों में अब तक 162 प्रवासी मज़दूरों की मौत हुई है और सैकड़ों घायल हुए हैं. बीते दो सप्ताह में ही 40 से ज़्यादा मज़दूरों ने सड़क हादसों में अपनी जान गंवाई है.