बीते मंगलवार को 'गुजरात नगर निगम चुनाव' में बीजेपी ने एक बार फिर से बड़ी सफ़लता हासिल की है. इस दौरान बीजेपी ने राज्य के 6 नगर निगमों में शानदार प्रदर्शन करते हुए एकतरफ़ा जीत हासिल की, लेकिन सूरत के परिणामों ने बीजीपी की टेंशन बढ़ा दी है.  

Source: newsroompost

दरअसल, गुजरात नगर निगम के चुनावों में पहली बार शिरकत कर रही 'आम आदमी पार्टी' ने 27 सीटें हासिल की हैं. इस दौरान 'आप' ने गुजरात की 6 नगर निगमों के लिए हुए चुनाव में अपने 470 उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन पार्टी ने अकेले सूरत की 120 में से 27 सीटों पर जीत हासिल की है.  

Source: indianexpress

22 साल की पायल बनीं पार्षद 

सूरत से 'आम आदमी पार्टी' की उम्मीदवार 22 वर्षीय पायल पटेल भी पार्षद चुनी गई हैं. इसके साथ ही वो पार्षद बनने वाली देश की सबसे युवा उम्मीदवार भी बन गई हैं. 'आप' ने इसी साल 24 जनवरी को सूरत के पूर्णा (पश्चिम) वार्ड नंबर 16 से पायल को मैदान में उतारने का फ़ैसला किया था. इस शानदार जीत के बाद स्थानीय लोगों ने पायल का धूमधाम से स्वागत किया.

सूरत में महानगर पालिका में आप के टिकट पर जीत दर्ज करने वाली सबसे कम उम्र की पायल पटेल इस चुनाव के आकर्षण का मुख्य केंद्र रहीं. इस दौरान आप कार्यकर्ताओं ने अहमदाबाद ऑफ़िस में केक काटकर उनकी जीत का जश्‍न भी मनाया. 

बता दें कि सूरत के पाटीदार बहुल 4 प्रमुख वार्ड में पाटीदार समाज ने खुलकर 'आम आदमी पार्टी' का साथ दिया, जिससे वो अपने पहले ही दांव में 27 सीट जीतकर महानगर पालिका में बीजेपी के बाद दूसरे नंबर की पार्टी बन गई है. 

अब पार्टी की इस जीत से उत्साहित AAP के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल 26 फ़रवरी को गुजरात का दौरा करेंगे. इस दौरान वो एक रोड शो के ज़रिए गुजरात के लोगों का धन्यवाद भी करेंगे.