देश में कोरोना वायरस मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. Worldometer वेबसाइट के मुताबिक़, भारत में कोरोना पॉज़िटिव लोगों की संख्या 987 हो गई है. वहीं, इससे मरने वालों की संख्या 25 हो गई है. महाराष्ट्र सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्य है. यहां कोविड-19 से जुड़े रविवार को 7 नए मामले सामने आए हैं. इसी के साथ यहां कुल मरीजों की संख्या 193 हो गई है.

बता दें, देश में 21 दिन का लॉकडाउन है. ऐसे में तमाम प्रवासी मजदूर जो अपने घरों से दूर हैं, वो किसी भी तरह अपने राज्यों में पहुंचना चाहते हैं. शनिवार को दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर जनसैलाब उमड़ पड़ा. जहां-जहां निगह जाती हर जगह लोगों का हुजूम नज़र आता. अपने घर पहुंचने की जल्दी में लोग बैग टांगे, बोरे को सिर पर उठाए और बच्चों और महिलाओं को साथ लिए लगातार चले जा रहे थे.

प्रवासी मजदूरों में बड़ी आबादी बिहार के लोगों की है. पड़ोसी राज्यों से बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर बिहार वापस लौट रहे हैं. जिसकी वजह से राज्य सरकार की नींद उड़ गई है. ANI के ट्वीट के मुताबिक़, राज्य के मंत्री संजय कुमार झा बताया कि बिहार वापस आने वाले प्रवासी श्रमिकों को राज्य की सीमाओं पर राहत केंद्रों में क्वारंटीन में रखा जाएगा, जहां उन्हें खाना और अन्य आवश्यक सुविधाएं दी जाएंगी. उन्हें 14 दिनों तक यहां रखा जाएगा.

ANI ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि, CBSE ने उन सभी कर्मचारियों की मदद से 21,00,000 रुपये का योगदान करने का फैसला किया है जो अपनी मर्जी से अपनी सैलरी दान करने के लिए आगे आए हैं. ग्रुप A के कर्मचारियों ने 2 दिन का और ग्रुप B और C के कर्मचारियों ने एक दिन का वेतन #PMCARES निधि में दान किया है.

पीएम मोदी ने की 'मन की बात'

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रविवार को 'मन की बात' कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया. पीएम मोदी ने देशवासियों से क्षमा मांगी. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ ऐसे फ़ैसले करने पड़े, जिनसे देशवासियों को दिक्कत उठानी पड़ी. उन्होंने ख़ास तौर पर गरीबों से माफ़ी मांगी.

साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि जो लोग जानबूझकर लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं, उन्हें इस बीमारी का पालन करना मुश्किल होगा. मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण में आए और इलाज करवाकर ठीक होने वाले लोगों से भी बात की.

पीएम मोदी ने कहा कि लोगों से सोशल डिस्टेंस बढ़ाने के लिए कहा है, लेकिन इस दौरान इमोशनल डिस्टेंस कम कर सकते हैं. साथ ही पीएम ने कहा कि उन्हें ये जानकारी मिली कि क्वारनटीन हुए लोगों के साथ कुछ लोग बदसलूकी कर रहे हैं. हमें ऐसे लोगों को लेकर संवेदनशील होना पड़ेगा.