एक रिपोर्ट के मुताबिक़, पंजाब एंड महाराष्ट्र कॉपरेटिव बैंक के मुंबई के 3 खाताधारकों की मौत हो चुकी है.


Indian Express की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, 2 लोगों की मृत्यु हार्ट अटैक से हुई और 1 ने आत्महत्या कर ली. मृतकों के रिश्तेदारों का कहना है कि वो लोग बहुत ज़्यादा चिंतित थे.

51 वर्षीय पूर्व जेट एयरवेज़ कर्मचारी, संजय गुलाटी और 52 वर्षीय फत्तोमल पंजाबी की हार्ट अटैक से मौत हुई. 39 वर्षीय डॉक्टर योगिता बिजलानी ने नींद की गोलियां खाकर सुसाइड कर लिया.

गुलाटी ने बैंक के बाहर कई दिनों तक विरोध प्रदर्शन किया. गुलाटी के 80 वर्षीय पिता ने बताया,

'उसके सारे अकाउंट PMC बैंक में ही थे, उसके सारे पैसे वहीं थे.'

गुलाटी के दोस्तों के अनुसार वो सोमवार शाम विरोध प्रदर्शन के बाद घर आया. उसके पिता ने बताया,

'उसे भूख लगी थी और उसकी पत्नी ने खाना परोसा. खाना खाते-खाते ही वो गिर पड़ा. हमें पता नहीं हम अब क्या करेंगे. मैंने अपना बेटा खो दिया, इससे बड़ा कोई नुक़सान नहीं.'

फत्तोमल के दोस्तों ने बताया कि उसे बिज़नेस में काफ़ी नुक़सान हो गया था और इसी साल की शुरुआत में उसने अपनी पत्नी और दामाद को खो दिया था.

फत्तोमल के पड़ोसी ने बताया,

'दोपहर 12:30 के आस-पास उसने सांस लेने में दिक्कत की शिकायत की. जब तक हम उसे अस्पताल ले जाते उसने दम तोड़ दिया था.'

Source: Jagran Josh

बिजलानी अपने पति के साथ कोलंबिया में रहती थी और पिछले साल ही मुंबई आई थी. वो अपने 1 साल के बेटे के साथ अपने माता-पिता के पास रहती थीं. एक वरिष्ठ पुलिस अफ़सर ने बताया,

'वो अवसाद ग्रसित थी. हमें उसका सुसाइड नोट मिला है. उसके परिवार के अनुसार उसने कोलंबिया में भी आत्महत्या की कोशिश की थी.'

पुलिस ने बताया कि पीएमसी बैंक के अंधेरी वेस्ट ब्रांच में बिजलानी के 90 लाख रुपये जमा थे.

सितंबर में आरबीआई ने पीएमसीबैंक से निकासी सीमित कर दी थी. पहले ये 1000 रुपये थी जिसे बाद में बढ़ाकर 40000 कर दिया गया था.