आख़िरकार एक लंबे इतंज़ार के बाद फ़्रांस से ख़रीदे गए '5 राफ़ेल विमान' आज सुरक्षित भारत पहुंच चुके हैं. क़रीब 7300 किलोमीटर का सफ़र तय कर ये सभी विमान 'अंबाला एयरफ़ोर्स स्टेशन' दोपहर 3:15 बजे लैंड कर चुके हैं.  

भारतीय वायुसेना प्रमुख आर.के.एस. भदौरिया ने रणनीतिक और सामरिक रूप से महत्वपूर्ण 'अंबाला एयरबेस' पहुंचे अत्याधुनिक हथियारों और मिसाइलों से लैस इन पांचों विमानों को 'भारतीय वायुसेना' में शामिल कर लिया है. 

बता दें कि फ़्रांस के साथ हुए 36 राफ़ेल विमानों के सौदे की ये पहली खेप है. भारत ने 4 साल पहले वायुसेना के लिए 36 राफ़ेल विमान ख़रीदने के लिए फ़्रांस के साथ 59 हज़ार करोड़ रुपये का करार किया था. भारत ने राफेल सौदे में क़रीब 5341 करोड़ रुपए लड़ाकू विमानों के हथियारों पर खर्च किए हैं. 

Source: financialexpress

आइये जानते हैं राफ़ेल की ख़ासियत-  

1- राफ़ेल की अधिकतम स्पीड 2,223 किलोमीटर प्रति घंटा है. जबकि इसकी मारक क्षमता 3700 किलोमीटर तक है.


2- राफ़ेल विमान 24,500 किलो भार उठाकर ले जाने में सक्षम हैं. इसके साथ ही 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान भी भर सकते हैं.

3- राफ़ेल में 150 किलोमीटर की 'बियोंड विज़ुअल रेंज मिसाइल और हवा से ज़मीन पर मार वाली स्कैल्प मिसाइल लगी हुई हैं.

4- राफ़ेल पहाड़ों पर कम जगह में उतर सकता है. इसे समुद्र में चलते हुए युद्धपोत पर भी उतार सकते हैं.

Source: prabhatkhabar

5- राफ़ेल की ख़ास बात ये है कि ये 360 डिग्री निगरानी रखने में सक्षम है. इसमें 3 तरह की मिसाइलें लगेंगी.


6- अत्याधुनिक हथियारों से लैस राफ़ेल विमान 1 मिनट के भीतर 18 हज़ार मीटर की ऊंचाई पर जा सकता है.

7- राफ़ेल में मौजूद स्कैल्प मिसाइल की रेंज 300 किलोमीटर है. हथियारों के स्टोरेज के लिए 6 महीने की गारंटी.

8- 75% विमान हमेशा ऑपरेशन के लिए तैयार हैं, अत्याधुनिक हथियारों से लैस राफ़ेल परमाणु हथियार ले जाने में भी सक्षम हैं. 

Source: livemint

9- राफ़ेल दो इंजन वाला लड़ाकू विमान है, जो भारतीय वायुसेना की पहली पसंद है. इसे हर तरह के मिशन में भेजा जा सकता है.


10- राफ़ेल ऊंचाई हासिल करने के मामले में दुनिया का सबसे प्रमुख लड़ाकू विमान है. इसका रेट ऑफ़ क्लाइंब (Rate of climb) 300 मीटर प्रति सेकंड है. 

Source: ndtv

कितनी है राफ़ेल विमानों की क़ीमत? 

36 राफ़ेल विमानों की क़ीमत 3402 मिलियन यूरो है. विमानों के स्पेयर पार्ट्स 1800 मिलियन यूरो के हैं, जबकि भारत के जलवायु के अनुरुप बनाने में 1700 मिलियन यूरो का ख़र्च हुए हैं. इसके अलावा परफ़ॉर्मेंस बेस्ड लॉजिस्टिक का ख़र्चा क़रीब 353 मिलियन यूरो आया है. 1 विमान की कीमत क़रीब 90 मिलियन यूरो यानी क़रीब 673 करोड़ रुपए है. इस विमान में लगने वाले हथियार, सिम्यूलेटर, ट्रैनिंग मिलाकर 1 राफ़ेल की क़ीमत क़रीब 1600 करोड़ रुपए होगी.