आमतौर पर सख़्त, कठोर समझी जाती है पुलिस. हो भी क्यों न, नौकरी की ही डिमांड है रफ़ ऐंड टफ़ बनने की. बीते सोमवार को बेंगलुरु पुलिस ने अपनी अलग ही छवि पेश की है.


बेंगलुरू सिटी पुलिस ने 5 Terminally Ill बच्चों को 1 दिन के लिए कमिश्नर बनाया.

बेंगलुरु के कमिश्नर, भास्कर राव ने पांचों बच्चों को चार्ज दिया और उन्हें बीमारी का डट का मुक़ाबला करने के लिए उत्साहवर्धन किया. बच्चों को यूनिफ़ॉर्म के साथ ही गॉर्ड ऑफ़ ऑनर भी दिया गया. कमिश्नर की कुर्सी पर बैठाकर बच्चों से कुछ नक़ली काग़ज़ात साइन करवाए गए.


बेंगलुरु सिटी पुलिस ने इन बच्चों के सपने को सच कर उन्हें 1 हीन दिन में बहुत सारी ख़ुशियां दे दीं.

बेंगलुरू सिटी पुलिस
Source: ANI

News18 की रिपोर्ट के अनुसार ये 5 बच्चे गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं और इनके मुस्कुराते चेहरों के पीछे बहुत सारा दर्द छिपा है. 11 साल के मोहम्मद साहिब को ब्ल्ड कैंसर है. 8 साल के रुतन कुमार की किडनी फ़ेल हो चुकी है. इस बच्चे की एक किडनी है और वो भी सिर्फ़ 30% ही काम कर रही है. 8 साल के पाशा को भी गंभीर बीमारी है. 8 साल की श्रावनी को Thalassemia है. सबसे छोटे 4 साल के सैयद ईमान को ब्ल्ड प्रेशर और एक Rare Contagious Disease है.

ट्विटर ने ये ख़बर देख ट्वीट्स द्वारा तालियां बजाईं-