दुनिया का हर देश अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए अपनी सेना को मज़बूत करने पर ज़ोर देता है. ऐसे में हर देश को अपनी सुरक्षा के लिए कई तरह के हथियारों की ज़रूरत भी होती है. दुश्मन को मार गिराने के लिए हर देश की सेना को फ़ाइटर जेट से लेकर लेटेस्ट बंदूकें, तोप, मिसाइल आदि की ज़रूरत पड़ती है. 

Source: dailyhunt

दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो अपने जवानों की सुरक्षा के लिए न सिर्फ़ हथियारों, बल्कि उनकी यूनिफ़ॉर्म पर भी विशेष ध्यान देते हैं. अमेरिका ब्रिटेन फ़्रांस और जर्मनी सरीख़े देशों की सेनाएं अपने जवानों की हाईटेक यूनिफ़ॉर्म के लिए दुनियाभर में जानी जाती हैं. 

आज हम आपको दुनिया के 6 सबसे पावरफ़ुल यूनिफ़ॉर्म के बारे में बताने जा रहे हैं-

1- फ़्यूचर फ़ोर्स वॉरियर (अमेरिका) 

'फ़्यूचर फ़ोर्स वॉरियर' अमेरिकी सेना की एक एडवांस्ड टेक्नोलॉजी परियोजना थी. इस परियोजना के तहत जवानों के यूनिफ़ॉर्म पर विशेष ध्यान रखा गया था. इस यूनिफ़ॉर्म की सबसे ख़ास बात ये थी कि ये जवानों के लिए किसी कवच से कम नहीं थी. इसे एक ख़ास मटीरियल से बनाया गया था. साल 2000 में इसकी शुरुआत 2010 और 2020 को ध्यान में रखते हुए की गई थी. इस यूनिफ़ॉर्म को बनाने के लिए चुंबकीय रियोलॉजिकल द्रव का इस्तेमाल किया जाता है जो शरीर से बिल्कुल चिपक जाता है. अगर कोई जवान मैग्नेटिक फ़ील्ड के दायरे में है तो ये द्रव चंद सेकेंड में सख्त हो जाता है. यानी गोली लगने पर ये सख्त हो जाता है. इसके साथ ही इस यूनिफ़ॉर्म में नैनोटेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है. 

Source: dailyhunt

2- रैटनिक-3 (रूस) 

रैटनिक-3 रूस की एक फ़्यूचर युद्ध प्रणाली है. ये प्रणाली रूसी सेना की युद्ध क्षमता और एक दूसरे से कनेक्ट रहने की सुविधा को बढ़ावा देती है. रैटनिक के तहत जवानों को यूनिफ़ॉर्म के अलावा ख़ास तरह के हथियार, हेल्मेट, संपर्क यंत्र और हेडफ़ोन्स दिए जाते हैं. इस दौरान जवानों की यूनिफ़ॉर्म को एक्सोस्केलिटन के रूप में बनाया जाता है, जिससे जवानों को किसी भी तरह की मुश्किल नहीं होती. इस यूनिफ़ॉर्म के एक्सोस्केलिटन या ढांचे को टाइटेनियम से बनाया जाता है. इसके अंदर बिजली का एक इंजन लगा रहता है जो चार्जिंग के साथ पूरे 1 दिन तक चल सकता है. ये यूनिफ़ॉर्म 50 डिग्री सेल्सियस से -50 डिग्री सेल्सियस तक के वातावरण में काम कर सकता है. इस यूनिफ़ॉर्म के साथ जवान एक हाथ में मशीनगन और 150 किलो तक हथियार या गोलियां अपने साथ ढो सकते हैं. 

Source: dailyhunt

3- फ़िस्ट (ब्रिटेन) 

;फ्यूचर इंटिग्रेटेड सोल्जर टेकनोलॉजी; (FIST) ब्रिटिश आर्मी का एक यूनीक प्रोजेक्ट है, जिसका उद्देशय जवानों के युद्ध के तरीक़े को बेहतर करना और उन्हें युद्ध के लिए सर्वश्रेष्ठ चीजें उपलब्ध कराना है. इसके तहत, हथियार, यूनिफ़ॉर्म, रेडियो तकनीक, देखने के लिए सुविधाजनक यंत्र मुहैया कराया जाता है. ब्रिटिश सेना के जवानों के लिए बनाई गई इस यूनिफ़ॉर्म के लिए डेवलपर्स ने ऐसे कपड़े का इस्तेमाल किया है जिसपर कंप्यूटर यंत्र भी लग जाता है, जिससे कनेक्टिविटी बेहतर हो जाती है. 

Source: dailyhunt

4- कॉमफ़ुट (स्पेन) 

इस स्पेनिश कवच को COMFUT (Combatiente Futuro) कहते हैं. स्पेन की GMV कंपनी स्पेनिश फ़्यूचर कॉम्बैट प्रोग्राम के तहत जवानों के लिए बेहतर सुरक्षा यंत्रों का निर्माण करती है. इस योजना के तहत बनने वाली ये यूनिफ़ॉर्म किसी सांइस फ़िक्शन फ़िल्म के कवच जैसी लगती है. इस दौरान जवानों को इस तरह की बंदूकें दी जाती हैं जिनसे जवानों को गोली चलाने के लिए बंदूक को अपने चेहरे के पास लाने की ज़रूरत ही नहीं होती. इसके साथ ही फ्लेक्सिबल बुलेटप्रूफ़ जैकेट का इस्तेमाल भी होता है. इन यूनिफॉर्म्स में पसीना सोखने के लिए भी खास तरह के यंत्रों का उपयोग किए जाते हैं. 

Source: dailyhunt

5- फ़ेलिन (फ़्रांस) 

फ़्रांस की सेना ने भी युद्ध के लिए अपने जवानों को बेहतर सुरक्षा कवच देने के लिए FÉLIN (Fantassin a Equipements et Liaisons Integres) नाम का एक ख़ास प्रोग्राम बनाया गया है, इसके ज़रिए जवानों के लिए जो यूनिफ़ॉर्म बनाई जाती है उसमें इस्तेमाल किया जाने वाला टेक्सटाइल बेहद खास होता है. ये यूनिफॉर्म पूरी तरह से वॉटर प्रूफ़ है और आग भी नहीं पकड़ती, साथ ही खून चूसने वाले कीटाणुओं से बचाता है. ये यूनिफ़ॉर्म किसी इंफ्रारेड स्पेक्ट्रम में जवानों को छुपाने में भी काम आती है. इस यूनिफ़ॉर्म के साथ एक ख़ास तरह का हेल्मेट भी दिया जाता है, जिसमें मास्क होता है. ये मास्क गैस रिसाव या हवा में ज़हर से भी जवानों की रक्ष करता है. 

Source: dailyhunt

6- IDZ-ES (जर्मनी) 

जर्मनी ने भी अपने फ़्यूचर सोल्जर प्रोजेक्ट के तहत IDZ-ES (Infanterist der Zukunft) प्रोग्राम का निर्माण किया है. इस प्रोग्राम के तहत जवानों को जो यूनिफ़ॉर्म दी जाती है उसके साथ में एक पोर्टेबल मिनी कंप्यूटर भी दिया जाता है. इस कंप्यूटर के माध्यम से युद्ध के दौरान जवान अपने साथियों को, सेना की दूसरी टुकड़ी को और अपने चीफ़ के कमांड को आसानी समझ पाते हैं. ये ख़ास तरह की यूनिफ़ॉर्म पूरी तरह से बुलेट प्रूफ़ होने के कारण बड़े धमाकों के बीच भी जवानों को सुरक्षित बचाने में कारगर है. 

Source: dailyhunt

आपको किस देश की सेना की यूनिफ़ॉर्म सबसे अच्छी और पावरफ़ुल लगी?