पुलिस अफ़सरों की छवि हमारे देश में अच्छी नहीं है. आम लोग यही मनाते हैं कि किसी से भी पाला पड़े पर कभी पुलिस स्टेशन के चक्कर न लगाने पड़ें. पुलिस के बारे में कई भ्रान्तियां और ग़लतफ़हमियां समाज में फैली हैं. विडंबना ये है कि सरहद पर हमारी सुरक्षा करने वाले सैनिकों को तो हम बहुत सम्मान देते हैं पर देश के अंदर बदमाशों से हमारी सुरक्षा सुनिश्चित करने वाले पुलिसवालों को आम तौर पर शक की नगाह से ही देखते हैं.


सम्मान देना तो दूर की बात, कई बार कुछ सिरफिरे पुलिसवालों पर ही हाथ उठा देते हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार, 30 जून 2019 को तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के सिरपुर विधायक कोनेरू कोनप्पा के भाई कोनेरू कृष्ण राव ने महिला फ़ोरेस्ट रेंज ऑफ़िसर, सी. अनिता को डंडे से बुरी तरह पीटा.

इससे पहले भी कई बार पुलिस अफ़सरों के साथ नेताओं और आम जनता ने मारपीट की है-

1. महाराष्ट्र के लातूर में भीड़ ने दो पुलिसवालों पर थाने के अंदर ही हमला कर दिया

Source: Rediff

19 फ़रवरी 2016 को महाराष्ट्र के लातूर के पानगांव क्षेत्र के थाने में एक भीड़ घुसी. भीड़ ने एएसआई यूनुस शेख़ और हेड कॉन्सटेबल के. अवास्कर पर हमला कर दिया. यूनुस को ज़बरदस्ती हाथ में केसरिया झंडा दिया गया और उनसे 'जय भवानी' 'जय शिवाजी' के नारे लगवाए गए. अवस्कर और यूनूस ने अबेदकर चौक के नज़दीक स्थित के मस्जिद के पास एक भीड़ को भगवा झंडा लगाने से रोका था.


रिपोर्ट्स के मुताबिक यूनुस ने SoS भी भेजा था पर अतिरिक्त पुलिस बल उनकी सहायता के लिए समय रहते नहीं पहुंची.

2. दिल्ली में ट्रैफ़िक पुलिस के साथ हाथापाई

दिल्ली के किशनगढ़ इलाके में ट्रैफ़िक पुलिस के एक सिपाही के साथ एक लड़के और लड़की ने बद्तमीज़ी की. रिपोर्ट के अनुसार, अप्रैल 7, 2019 को अपना काम कर रहे ट्रैफ़िक पुलिस के सिपाही के साथ लड़के और लड़की ने गाली-गलौच की, लड़की ने सिपाही को प्लास्टिक की बोतल से मारा. लड़की ने सिपाही की चालान मशीन तोड़ दी और लड़के ने यूनिफ़ॉर्म फाड़ी.

3. अवैध शराब का धंधा रोकने गए सब-इंस्पेक्टर की हत्या

Source: Hindustan Times

ऐसे ही एक और मामले में दिल्ली में अवैध शराब का कारोबार रोकने गए सब-इंस्पेक्टर की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई. एक रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर राज कुमार की धंधा करने वाले गुंडे ने मार दिया.

4. शराब पीकर गाड़ी चला रहे युवकों को रोकने पर कॉन्सटेबल पर हमला

Source: Wikipedia

शराब पीकर गाड़ी चलाना ग़ैरक़ानूनी है. रिपोर्ट के अनुसार चेन्नई में एक पुलिस कॉन्सटेबल ने 'ड्रिंक एंड ड्राइव' के जुर्म में कुछ बाइक वालों को रोकने की कोशिश की पर वे भाग निकले. कॉन्सटेबल ने अपना डंडा आख़िरी बाइक पर मारा ताकि वो रुक जाए पर उसका बैलेंस बिगड़ा और वो गिर गया. कुछ देर बाद 11 लोगों की भीड़ आई और कॉन्सटेबल को बुरी तरह पीटा.

5. डीजे रोकने के लिए पुलिस वाले को पीटा गया

Source: India TV News

दिल्ली पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर के साथ उस वक़्त मारपीट की गई जब वे डीजे बंद कराने पहुंचे. इस मारपीट में दो महिलाओं समेत 6 लोग शामिल थे. जब सब-इंस्पेक्टर ने अपने सीनियर्स को बुलाने के लिए फ़ोन निकाला तो आरोपियों ने उनका फ़ोन और सर्विस रिवॉल्वर छीन लिया.

7. बीजेपी काउंसिलर ने रेस्त्रां में घुसकर सब-इंस्पेक्टर को पीटा

मेरठ के ब्लैक पेपर रेस्त्रां की घटना है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीजेपी काउंसलर मनीष पंवार ने सब-इंस्पेक्टर सुखपाल सिंह के साथ बद्तमीज़ी और मार-पीट की.

8. आंध्र प्रदेश में पुलिस स्टेशन में घुसकर पुलिसवालों को पीटा

आंध्र प्रदेश के नेल्लोर की घटना है. रिपोर्ट के अनुसार पुलिसवालों ने पूछताछ के लिए 3 लोगों को थाने बुलाया था. उनके परिजनों ने थाने में घुसकर सब-इंस्पेकटर और कॉन्सटेबल को मारा.

ये तो कुछ घटनाएं थीं. नेता से लेकर आम लोग तक सभी पुलिस के ईमानदार अफ़सरों पर मारपीट और हमला कर देते हैं. घटनाओं के लोकेशन्स से ये तो साफ़ है कि देश के हर कोने में पुलिस के साथ बद्तमीज़ी और मार-पीट की घटनाएं होती हैं.