मध्य प्रदेश के गुना में गुरुवार रात 2:30 बजे के क़रीब महाराष्ट्र से यूपी लौट रहे श्रमिकों से भरे कंटेनर की एक बस से टक्कर हो जाने से 8 मज़दूरों की मौत हो गई, जबकि 55 अन्य मज़दूर घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें से कई की हालत गंभीर बनी हुई है. 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के प्रवासी कामगारों व श्रमिकों की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये और हादसे में गंभीर रूप से घायल लोगों को 50-50 हज़ार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान किये जाने के निर्देश दिए हैं. 

Source: naidunia

इसके साथ ही सीएम योगी ने अधिकारियों को मध्य प्रदेश सरकार से समन्वय कर सभी घायलों का समुचित उपचार कराने के साथ ही मृतकों के पार्थिव शरीर को उनके परिजनों तक पहुंचाने के निर्देश दिए हैं.  

कैसे हुआ ये हादसा? 

बताया जा रहा है जो कंटेनर दुर्घटना ग्रस्त हुआ उसमें 70 मज़दूर भरे हुए थे. घर लौटने की मजबूरी में ये लोग इसमें ठूंस-ठूंसकर भरे हुए थे. कंटेनर के अंदर सांस लेना भी मुश्किल हो रहा था. इस दौरान 7 श्रमिकों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 1 शख़्स ने अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में दम तोड़ दिया. 

Source: thehindu

पुलिस ने कहा कि, घायलों में से कुछ की हालत बेहद गंभीर है. सभी घायलों को गुना ज़िला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. जिस बस ने टक्कर मारी वो गुना से अहमदाबाद जा रही थी. बस में सिर्फ़ ड्राइवर और क्लीनर ही सवार थे. 

Source: ndtv

मुज़फ्फ़रनगर में बस ने 10 लोगों को रौंदा 

उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फ़रनगर में पंजाब से बिहार पैदल जा रहे 10 प्रवासी मज़दूरों को यूपी रोडवेज की बस ने कुचल दिया. इस हादसे में 6 मज़दूरों की दर्दनाक मौत हो गई, जबकि 4 मज़दूर घायल हो गए. घायलों में 2 की हालत नाजुक है, जिनका इलाज मेरठ ज़िला अस्पताल में चल रहा है. 

Source: naidunia

पुलिस के मुताबिक़, ये हादसा बुधवार रात 11 बजे के क़रीब हुआ था. बस खाली थी ड्राइवर फ़रार है. ये हादसा ऐसे समय में हुआ है जब बुधवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने अधिकारियों को ये सुनिश्चित करने का निर्देश दिए थे कि 'किसी भी कीमत' पर कोई प्रवासी मज़दूर पैदल नहीं जाए.