भारत में कोविड-19 सेकेंड वेब (Covid-19 Second Wave) ने तबाही मचा दी है. कहीं Remdesivir की कमी हो रही है, कहीं बेड की. कहीं ऑक्सिजन की कमी की वजह से लोगों की जान जा रही है तो कहीं सही वक़्त पर सही इलाज न मिलने की वजह से. हालत ये है कि श्मशान घाटों पर टोकन बिक रहे हैं, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो लाशों का अंतिम संस्कार एक साथ भी हो रहा है.  

देश की चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था और तेज़ी से फैल रहे वायरस को देखते हो बहुत सारे राज्यों में 'कर्फ़्यू' लगा दिया गया है. ग़ौरतलब है कि Essential Services बंद नहीं किये गये हैं. हर तरफ़ नकारात्मक माहौल है. पिछले साल की तरह ही मज़ूदरों का पलायन शुरू हो चुका है.

हालात ऐसी हो गई है कि लोग सोशल मीडिया पोस्ट्स (Social Media Posts) के ज़रिये दवाइयां, अस्पताल में बिस्तर, इंजेक्शन, प्लाज़्मा आदि मांग रहे हैं. Instagram Pages, Facebook Groups, WhatsApp Groups के ज़रिये बहुत से लोगों की मदद भी हो रही है.   

ट्विटर पर Sohini Chattopadhyay नामक एक यूज़र ने एक सकारात्मक वाक़्या साझा किया. सोहिनी ने कुछ ट्वीट्स डाले और आगे कि कहानी आप ट्वीट्स के द्वारा पढ़ लीजिये. 

1. मेरी एक दोस्त को Tinder के ज़रिये प्लाज़्मा मैच मिला 

2. उसकी हालात पहले से सही है और इसलिये और हस्तक्षेप की ज़रूरत नहीं है. 

3. क्योंकि बहुत से लोग पूछ रहे हैं-

(1) पुलिस भी मैच ढूंढती है लेकिन उसमें वक़्त लगता है.
(2) हम Tinder पर ऐक्टिवली नहीं ढूंढ रहे थे लेकिन एक मददगार इंसान मिलने पर हमें ख़ुशी हुई.
(3) मेरी दोस्त अभी पहले से ठीक है. 

4. दोस्तों (आपको पता है आप कौन हैं): अजीबो-ग़रीब वक़्त में कुछ अच्छी घटना घटी और ये ट्वीट उसी को लेकर है. आपको मुझे DM में ट्रोल करने की ज़रूरत नहीं है.  

ज़ाहिर सी बात है कि ये सब पढ़कर किसी को भी लगेगा कि ये मनघड़ंत कहानी है. इस सवाल का भी जवाब Sohini ने दिया 

5. एक दोस्त ने उसके Bio में Requirements लिख दिया और हमें कोविड रिकवर्ड (Covid Recovered) बंदा मिल गया. 

 ट्विटर पर ख़बर पढ़कर लोगों में खलबली मच गई-

कहानी कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताइये.