देश के 4 राज्यों व 1 केंद्रशासित प्रदेश में इस साल होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी घमासान जारी है. 27 मार्च से पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव का आगाज़ होने जा रहा है. केरल में 6 अप्रैल को विधानसभा चुनाव होने हैं, 2 मई को नतीजे आएंगे. पश्चिम बंगाल और केरल विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी और कांग्रेस ने चुनावी मैदान में कुछ ऐसे उम्मीदवार भी उतारे हैं, जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जायेंगे.  

मिथुन चक्रवर्ती से लेकर मनाली डे तक, ये 9 एक्टर्स 2021 में इन राजनीतिक दलों में हुए हैं शामिल 

Source: newindianexpress

बीजेपी ने बंगाल को 'सोनार बांग्ला' बनाने का आह्वान किया है. पार्टी ने अपने इस अभियान में दो ऐसी महिलाओं को अपना उम्मीदवार बनाया है, जो न केवल दलित और वंचित समुदाय से हैं, बल्कि उनमें एक उम्मीवार वर्षों से दूसरे के घरों में बर्तन मांजती रही हैं, जबकि दूसरी महिला दिहाड़ी मज़दूर का काम कर रही हैं. 

Source: freepressjournal

1- कलिता माझी (बीजेपी)  

32 वर्षीय कलिता माझी पश्चिम बंगाल के बर्दमान ज़िले के आउसग्राम विधानसभा सीट से बीजेपी की उम्मीदवार हैं. किसान की बेटी और प्लंबर की पत्नी कलिता पिछले दो दशकों से हर रोज 4 से 6 घरों में बर्तन मांजकर हर महीने 2 से 3 हज़ार रुपये कमाकर अपना घर चलाती हैं. कालिका के संपत्ति के तौर पर एक टूटा फूटा घर, जनधन अकाउंट में 1500 रुपए और 6 साड़ियां हैं. वो लंबे समय बीजेपी की सदस्य हैं. चुनाव प्रचार के दौरान वो कह रही हैं कि यदि वो जीतती हैं, तो समाज की महिलाओं की हालत बदल देंगी. 

Source: twitter

2- चंदना बाउरी (बीजेपी)  

30 वर्षीय चंदना बाउरी पश्चिम बंगाल के बांकुरा ज़िले के सालतोरा विधानसभा सीट से बीजेपी की उम्मीदवार हैं. वो अपने दिहाड़ी मज़दूर पति के साथ हेल्पर के तौर पर काम करती हैं. ये दोनों मिलकर प्रतिदिन क़रीब 400 रुपये कमा लेते हैं. संपत्ति के नाम पर इनके पास 3 बकरियां, 3 गायें, बगैर टॉयलेट वाली एक झोपड़ी है और कैश व बैंक में जमा रकम मिलाकर करीब 32 हजार रुपये हैं. चंदना इन दिनों केलाई गांव में स्थित अपने घर से हर दिन चुनाव प्रचार कर रही हैं और जनता से जीतने का आग्रह कर रही हैं. 

Source: zeenews

इसी तरह केरल विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के उम्मीदवारों की लिस्ट देखकर आप राहुल गांधी के युवा विज़न की तारीफ़ ज़रूर करेंगे. केरल कांग्रेस ने इस बार कुल उम्मीदवारों में से 55 फ़ीसदी टिकट युवाओं को दिए हैं. इनमें दूध बेचने वाली अरिता बाबू और 1 रुपया लेकर ग़रीबों का केस लड़ने वाला वकील भी शामिल है.

3- अरिता बाबू (कांग्रेस) 

केरल कांग्रेस ने 27 साल की अरिता बाबू को टिकट दिया है. वो केरल की सबसे युवा उम्मीदवार बताई जा रही हैं. अरिता दूध बेचने के साथ ही खेती का काम भी करती हैं. वो जब सिर्फ 13 साल की थीं तभी 'केरल स्टूडेंट यूनियन' से जुड़ गई थीं, फिर वो यूथ कांग्रेस में आ गईं. साल 2015 में वो ज़िला पंचायत अध्यक्ष चुनी गई. अरिता जिस सीट से चुनाव लड़ रही हैं उनकी टक्कर मौजूदा विधायक प्रतिभा हरी (CPI (M) और प्रदीप लाल (एनडीए) से है. 

Source: twitter

4- बीआरएम शफ़ीर (कांग्रेस) 

कांग्रेस ने केरल के कोल्लम ज़िले की वर्कला विधानसभा सीट से 32 साल के बीआरएम शफ़ीर को टिकट दिया है. पेशे से वकील शफ़ीर '1 रुपये की फ़ीस लेने वाले वकील' के नाम से जाने जाते हैं. बेहद ग़रीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले शफ़ीर पढ़ाई के दिनों में रबड़ बनाने के लिए पेड़ से लेटेक्स निकालने का काम किया करते थे. इसके बाद पढ़ाई के बाद वो वकील बने और तब से ही ग़रीबों के केस फ़्री में लड़ते हैं.

Source: facebook

इनके अलावा भी कई उम्मीदवार हैं जो बेहद साधारण पृष्ठभूमि से आते हैं.