कोरोना से जारी इस जंग में हम लोग कितना भी हमारे फ़्रंटलाइन वर्कर्स का शुक्रिया कर लें कम है. वो लोग दिन-रात 12-12 घंटे काम कर बस लोगों की देख भाल करने में लगे हुए हैं. 

दिल्ली के LNJP अस्पताल में काम कर रहे ऐसे ही दो कोरोना योद्धा हैं: डॉ. रश्मि मिश्रा और डॉ. ईशान रोहतगी 

28 साल की डॉ. रश्मि और 29 साल के डॉ. ईशान दोनों ही दिल्ली सरकार द्वारा संचालित लोक नायक अस्पताल में काम करते हैं. इन दोनों की पिछले साल जुलाई में शादी हुई थी. और हर नए-जोड़े की तरह इन्होंने भी एक-दूसरे के साथ समय बिताने और घूमने का सोचा था. मगर कोरोना महामारी के चलते अभी इनका सारा समय अस्पताल में लोगों की देखभाल करते हुए बीतता है. 

corona warriors
Source: ndtv

दोनों ही दंपति अस्पताल में 12 घंटे की बेहद कड़ी और थका देने वाली शिफ़्ट करते हैं. दिल्ली में कोरोना वायरस के किस्से थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. 

रश्मि और ईशान कुछ महीने पहले अपने परिवार से मिले थे और तब से उनके साथ केवल मैसेज और वीडियो कॉल के माध्यम से ही संपर्क में हैं. 

डॉ. ईशान रोहतगी ने एनडीटीवी को बताया, 'हम मार्च के बाद से अपने परिवारों से नहीं मिले हैं. वीडियो कॉल और मैसेज ही बात करने का एक ज़रिया रह गया है.' 

दोनों ही सुबह अस्पताल पहुंचने के बाद PPE गाउन और मास्क पहन, अपने-अपने राउंड पर निकल जाते हैं. उनकी शिफ़्ट 6 से 12 घंटे तक चलती है. लगातार चलती एक 6 घंटे की शिफ़्ट में उन्हें 5 घंटे तक अपना PPE गाउन और मास्क पहने रहना पड़ता है. इस बीच न तो वे कुछ खा या पी सकते हैं, यहां तक की टॉयलेट भी नहीं जा सकते. 

frontline workers
Source: ndtv

दोनों ही दंपति 2 हफ़्ते के लिए लगातार काम करते हैं और फिर आने वाले 7 दिन ख़ुद को क्वारंटाइन करते हैं. 

एक ही हॉस्पिटल में काम करने के बावज़ूद वो आपस में बिलकुल बात नहीं कर पाते. जब हर 6 घंटे में शिफ़्टस बदलती हैं तब ही दोनों मिल पाते हैं.   

रश्मि और ईशान बताते हैं कि वो मरीज़ और उनके परिवार के बीच एक पुल बनने की पूरी कोशिश करते हैं. 

एक मरीज़ की मौत हो जाना वो भी ऐसे कि उनके परिवार वाले इस मुश्किल वक़्त में उनके साथ नहीं होते, ये सबसे कठिन काम होता है 

NDTV को डॉ. रश्मि बताती हैं, 'परिवार वालों को ये ख़बर बताना सबसे मुश्किल और दुख़द है.'

LNJP hospital
Source: indianexpress

परिवार वालों पर संक्रमण का ख़तरा न हो इसलिए दोनों ही इन दिनों अस्पताल के पास एक गेस्ट हाउस में रह रहे हैं. 

राजधानी में लगातार बढ़ते कोरोना के मामले को देखते हुए दंपति का कहना है, 

'हम जनता से अपील करते हैं कि अपने ज़रूरी कामों के अलावा घर से निकलने से पहले दो बार ज़रूर सोचें. पिज़्ज़ा, स्पा, शॉपिंग ये सब कुछ महीनों के बाद भी हो सकता है. जब भी आप बाहर निकले, समाजिक दूरी का सख्ती से पालन करें, मास्क पहनें और लगातार साबुन और पानी से अपना हाथ धोते रहें.'