कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के सख्त प्रतिबंधों के बावजूद एक 50 वर्षीय महिला कार से 6 राज्यों की 2700 किमी की यात्रा कर अस्पताल में भर्ती अपने बीमार सैनिक बेटे से मिलने जा पहुंची.

Source: yourstory

केरल के रहने वाले 29 वर्षीय अरुण कुमार भारतीय सेना के जवान हैं. BSF के जवान अरुण वर्तमान में राजस्थान के जोधपुर में तैनात हैं. लेकिन कुछ समय पहले अचानक मायोसाइटिस (मांसपेशियों में सूजन) के चलते उन्हें जोधपुर के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इस दौरान जोधपुर एम्स में कार्यरत एक मलयाली डॉक्टर ने अरुण के परिवार को उनकी तबियत के बारे में सूचित किया, तो मां शीलाम्मा वसन काफ़ी परेशान हो गईं. वो हर हाल में अपने बीमार बेटे से मिलना चाहती थीं. इस बीच देशभर में लॉक डाउन के चलते पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने पर उन्होंने केरल से जोधपुर कार से चलने का फ़ैसला किया.

Source: tribuneindia

इसके बाद BSF जवान अरुण कुमार की मां शीलाम्मा वसन अपनी बहू और एक अन्य रिश्तेदार के साथ 11 अप्रैल को जोधपुर के लिए निकल पड़ीं. आख़िरकार 3 दिन बाद केरल से तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात होते हुए 2700 किमी की लंबी यात्रा कर ये तीनों लोग जोधपुर में अरुण से मिल पाए.

पीटीआई से बातचीत करते हुए अरुण कुमार की मां शीलाम्मा वसन ने कहा कि 'भगवान की कृपा से हम बिना किसी परेशानी के यहां तक पहुंच पाए हैं. मायोसाइटिस (मांसपेशियों में सूजन) से पीड़ित अरुण के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है.

Source: indiatvnews

इन लोगों की मदद से पहुंच पाए जोधपुर

केंद्रीय मंत्री वी. मुरलीधरन, मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के कार्यालय और कांग्रेस नेता ओमन चांडी की वजह से ही पूरे परिवार को इन राज्यों में यात्रा के लिए आवश्यक पास मिल सके. जबकि विहिप संगठन के स्वयंसेवकों ने उन्हें जोधपुर ले जाने के लिए एक कैब और दो टैक्सी चालकों की नि:शुल्क व्यवस्था करने में मदद की.