कहते हैं न कि फ़िल्में कहीं न कहीं समाज की सच्चाई भी उजागर करती हैं. फ़िल्मों में अक्सर सरकारी अधिकारियों को रिश्वतखोर, भ्रष्ट और बेईमान दिखाया जाता है, जो हर काम को करने के एवज में घूस खाता है. और आज हम आपको ऐसे ही एक भ्रष्ट अफ़सर की ख़बर बताने जा रहे हैं. जी हां, राजस्थान के कोटा शहर में पदस्थ इंडियन रेवन्यू सर्विस (IRS) ऑफ़िसर, सही राम मीणा एक ऐसे ही करप्ट ऑफ़िसर हैं. एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) ने जब इस सरकारी ऑफ़िसर के घर पर छापा मारा, तो घर से 2.26 करोड़ रुपए कैश समेत 82 प्लाट, 25 दुकानों और एक पेट्रोल पंप के कागज़ात मिले हैं.

Source: indiatimes

ANI के मुताबिक़, बीते शनिवार एंटी करप्शन ब्यूरो ACB की रेड के दौरान सही राम मीणा के घर से करोड़ों की संपत्ति मिली है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्तमान में मीणा राजस्थान के कोटा शहर में बतौर डिप्टी कमिश्नर (Narcotics) कार्यरत हैं. ACB की टीम को छापे के दौरान मीणा के घर से 2 करोड़ 26 लाख 98 रुपए कैश, 6 लाख रुपए के गहने, पेट्रोल पंप, मैरिज गार्डन और कई कीमती प्रॉपर्टी के कागज़ बरामद हुए हैं.

Source: timesnow

गौरतलब बात ये है कि ACB की टीम ने रेड डालने की ये कार्रवाई सही राम मीणा के ख़िलाफ़ मिली शिकायतों के बाद की है. एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने ये छापा मीणा के जयपुर के जगतपुर के शंकर विहार इलाके में स्थित निवास पर छापा मारा है. जहां से टीम ने बहुत ज़्यादा नक़दी और मीणा के नाम पर ही जयपुर में एक पेट्रोल पंप, 25 दुकानें और 82 प्लाट के कागजात ज़ब्त किए.

Source: indiatimes

इसके अलावा ACB की कई टीमें इस करप्ट अधिकारी की अलग-अलग प्रॉपर्टी की जांच करने के लिए भेजी गई हैं.

लोकल मीडिया के अनुसार, पिछले कई दिनों से ACB मीणा पर नज़र लगाए हुए थी क्योंकि उसके ख़िलाफ़ कई शिकायतें मिल चुकी थीं. उसके ख़िलाफ़ ये शिकायतें भी आई थीं कि वो रिटर्न के बदले रिश्वत की मांग करता था. इसलिए ACB ने उसके उसको रंगे हाथों पकड़ने के लिए जाल बिछाया और जब पता चला कि मीणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के साथ अफ़ीम लाइसेंसिंग प्रक्रिया में काम करने वाले कमलेश (कॉर्डिनेटर) से 1 लाख रुपये की रिश्वत ले रहा है, तभी उसके घर पर छापा मारा गया.

Source: indiatimes