कोरोना वायरस के चलते देशभर में लोगों को बहुत दिक़्क़तों का सामना करना पड़ा लेकिन सबसे ज़्यादा मुश्किल प्रवासी मज़दूरों को हुई थी. आपको बीते महीनों से प्रवासी मज़दूरों के पैदल यात्रा के वो दर्दनाक दृश्य तो याद ही होंगे. ऐसे में जब इन मज़दूरों को कहीं से मदद नहीं मिल रही थी तब अभिनेता सोनू सूद इनके लिए एक मसीहा बन कर आए और उन्होंने ट्रेन, बस और हवाई यात्रा के द्वारा इन मज़दूरों को उनके घर सुरक्षित पहुंचाया था.  

ऐसे मुश्किल हालातों में लोगों के मसीहा बने सोनू सूद को कोलकाता का एक पंडाल सम्मानित कर रहा है. दुर्गा पूजा के पावन अवसर पर कोलकाता में एक दुर्गा पूजा समिति ने अपने पूजा पंडाल में सोनू सूद की मूर्ति लगाई है और उन्हें 'भगवान' का दर्जा दिया है.  

रिपोर्ट्स के अनुसार प्रफुल्ला कन्नन वेलफ़ेयर असोसिएशन नाम की पूजा समिति ने जो पंडाल इस साल तैयार किया है, वह 'प्रवासी मज़दूर' के थीम पर आधारित है. पूजा समिति के सदस्य सृंजय दत्ता ने कहा कि समिति ने सोनू सूद की मूर्ति इसलिए लगवाई है ताकि लोग उनसे जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए प्रेरणा ले सकें. 

लोगों द्वारा उनको इस तरह सम्मानित करते देख सोनू सूद ने भी अपना आभार जताया और ट्वीट कर लिखा, 'मेरा अब तक का सबसे बड़ा पुरस्कार' 

एक्टर सोनू सूद अभी भी लोगों की मदद करने में जुटे हुए हैं.