‘जिन्हें बनाया था अपने हाथों से आज उन पर टूटने को मजबूर हूं

छालों भरे पांव से तपती सड़कों पर चलने वाला मैं वही मज़दूर हूं’

ये पीड़ा इस वक़्त देश के हर प्रवासी मज़दूर की है. लॉकडाउन के चलते उनका रोज़गार छिन गया. दूसरे शहरों में उनके पास अब न कोई बचत बची है और न ही खाने को ही कुछ है. ऐसे में हज़ारों-हज़ार मज़दूर अपने घर-गांव को वापस लौट रहे हैं. लेकिन घर लौटने का ये सफ़र भी उनकी ज़िंदगियों की तरह ही मुश्क़िलों से भरा है. कोई साधन नहीं है, तो ये प्रवासी पैदल, साइकिल, ऑटो, ट्रकों में भरकर किसी तरह सफ़र कर रहे हैं. बहुत से मज़दूरों के पास चप्पल तक नहीं है. सैकड़ों किमी तक चलते-चलते उनकी चप्पलें घिस गई हैं, पांव में छाले पड़ गए हैं. ऐसे में आगरा पुलिस ने इन मज़दूरों की मदद के लिए अपना हाथ बढ़ाया है.

Source: twitter

दरअसल, एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें दिख रहा है कि मज़दूर पैदल ही रास्ते पर चल रहे हैं. उनके पैरों में चप्पल तक नहीं है. ऐसे में रास्ते किनारे आगरा पुलिस के जवान बहुत सारी चप्पलें लेकर बैठे हैं. वो मज़दूरों को बुलाकर अपने हाथ से चप्पल पहना रहे हैं.

इस वीडियो को ख़ुद आगरा ज़ोन के एडीजी ने शेयर किया है. उन्होंने लिखा, ‘कहीं भोजन की व्यवस्था तो कहीं पानी की, आगरा पुलिस इसी क्रम में प्रवासी मज़दूरों के लिए चप्पलों की भी व्यवस्था कर रही है और इस कदम को लोग बेहद सराहनीय भी मान रहे हैं.’

इस वीडियो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग पुलिस की जमकर सराहना कर रहे हैं.

बता दें, हज़ारों की तादाद में प्रवासी मज़दूर घर लौट रहे हैं. इनके पास खाने-पीने की व्यवस्था तक नहीं है. रास्ते में कई मज़दूर हादसों में अपनी जान तक गंवा चुके हैं. फिर भी अपनों के बीच पहुंचने की कोशिश में ये चले जा रहे हैं. ऐसे में कुछ लोग हैं, जो रास्ते में इन मज़दूरों को थोड़ी ही सही मगर राहत देने की कोशिश कर रहे हैं. आगरा पुलिस की ये मदद भी उसी कड़ी का हिस्सा है.