3 जून से लापता भारतीय वायुसेना के दुर्घटनाग्रस्‍त मालवाहक विमान AN-32 में सवार सभी 13 जवान शहीद हो गए हैं. भारतीय वायुसेना ने ख़ुद इसकी जानकारी दी है.

मंगलवार को AN-32 का मलबा अरुणाचल प्रदेश के सियांग में मिला था.

ANI के मुताबिक, विमान के मलबे तक पहुंचे बचाव दल ने सभी जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है. इसके बाद भारतीय वायुसेना ने हादसे में शहीद हुए सभी जवानों के परिवारों को इसकी सूचना दे दी है.

मंगलवार को पहली बार अरुणाचल के सियांग में भारतीय वायुसेना के लापता विमान AN-32 का मलबा देखा गया था. जिस जगह पर विमान का मलबा मिला है, वो करीब 12 हज़ार फ़ुट की ऊंचाई पर स्थित है. ऐसे में विमान के मलबे तक पहुंचना सबसे चुनौतीपूर्ण काम था.

Source: indiatoday

इसके बाद बुधवार को 15 सदस्‍यीय विशेषज्ञ दल को सियांग में हेल‍िड्रॉप किया गया था. इस दल में एयरफोर्स, आर्मी के जवान और पर्वतारोही शामिल थे. बचाव दल को पहले एयरलिफ़्ट करके मलबे के पास ले जाया गया और फिर उन्‍हें हेल‍िड्रॉप किया गया.

हादसे में सभी 13 जवान शहीद

इस हादसे में शहीद हुए 13 जवानों में 6 अधिकारी जबकि 7 एयरमैन थे. शहीद होने वालों में विंग कमांडर जीएम चार्ल्‍स, स्क्वाड्रन लीडर एच. विनोद, फ़्लाइट लेफ़्टिनेंट आर. थापा, ए. तंवर, एस. मोहंती और एम.के. गर्ग, वॉरेंट ऑफ़िसर के.के मिश्रा, सार्जेंट अनूप कुमार, कोरपोरल शेरिन, लीड एयरक्राफ़्ट मैन एस.के. सिंह व पंकज, गैर लड़ाकू कर्मचारी पुतली व राजेश कुमार शामिल हैं.