अफ़वाहें सबसे ख़तरनाक बीमारी हैं. ये किसी भी वायरस से तेज़ फ़ैलती हैं. कोरोना वायरस को लेकर भी कुछ ऐसा ही माहौल देश में है. ताज़ा मामला इंडिगो एयरलाइन में काम करने वाली लड़की से जुड़ा है. तरूण शुक्ला नाम के ट्विटर हैंडल से एक वीडियो पोस्ट किया गया. जिसमें एक लड़की रोते-बिलकते अपने साथ हो रहे भेदभाव को बयां कर रही है.

वीडियो में लड़की ने बताया कि वो जहां रहती है, वहां लोग इस तरह की अफ़वाहें फैला रहे हैं कि वो कोरोना वायरस से संक्रमित है. साथ ही उसकी मां को भी परेशान किया जा रहा है. दुकान पर उन्हें सामान नहीं दिया जा रहा है. लोग कह रहे हैं कि आपकी लड़की को कोरोना है, और आपके भी हो सकता है. आप लोग बाकी लोगों को भी वायरस से संक्रमित कर देंगे.

उसने कहा कि इस तरह का व्यवहार उसके अलावा दूसरे सहकर्मियों के साथ भी हो रहा है. उन्हें अपना काम करने की वजह से परेशान किया जा रहा है. निवेदन है कि लोगों को इन अफ़वाहों के प्रति सचेत करें. हम लोग जो इन सर्विसेज़ में काम कर रहे हैं, बाकी लोगों से ज़्यादा एहतिहात रखते हैं. उसने कहा कि अगर उसे कुछ हुआ भी तो वो सबसे पहले काम छोड़कर डॉक्टर के पास जाएगी.

बकौल ट्वीट ये वीडियो कोलकाता का है. जिसमें बताया जा रहा है कि कुछ अराजकतत्व उनके घर आ रहे हैं और लड़की और उसकी मां को जबरन अस्पताल में एडमिट करवाने की बात कर रहे हैं.

यही नहीं, दिल्ली का भी एक वीडियो ट्वीट किया गया है. इसमें एयर इंडिया की एक क्रू मेंबर को कुछ लोग परेशान करते दिख रहे हैं.

बता दें, इस वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस भी हरक़त में आई है. बताया गया कि कोलकाता पुलिस ने लड़की से बात की है और अब वो सुरक्षित महसूस कर रही है.

इस घटना पर नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी ट्वीट कर दुख जताया है. उन्होंने कहा, ‘ये जानकर बहुत दुख हुआ कि कुछ विमानन पेशेवर, जो कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के भारत के प्रयासों में सबसे आगे रहे हैं और यहां तक कि दुनियाभर से अपने साथी नागरिकों को बचा कर लाए हैं, लोग उन्हें परेशान कर रहे हैं.’

साथ ही उन्होंने लिखा, ‘मैं अपने पेशेवरों की निस्वार्थ प्रतिबद्धता और दृढ़ संकल्प का सम्मान करता हूं और संबंधित अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे उन लोगों और उनके परिवारों को हर संभव सहायता, समर्थन और सुरक्षा प्रदान करें, जो सेल्फ़ क्वारंटाइन में हैं.’